HamburgerMenuButton

कोरोना ने जिन परिवारों से मुखिया छीन लिया उन्हें स्वावलम्बी बनाने मदद करेगा जैन संवेदना ट्रस्ट

Updated: | Thu, 06 May 2021 07:35 AM (IST)

रायपुर। वैश्विक महामारी कोरोना ने जिन परिवारों से उनका भरण-पोषण करने वाले मुखिया को छीन लिया। छोटे बच्चे अनाथ हो गए, दो वक्त की रोटी नसीब होना मुश्किल हो गया। ऐसे असहाय परिवारों के सदस्यों की पीड़ा को दूर करने जैन संवेदना ट्रस्ट ने स्वावलंबी बनाने का बीड़ा उठाया है। परिवार के युवक-युवतियों में से किसी एक को व्यापार, व्यवसाय करने के लिए आर्थिक सहायता दी जाएगी।

इसके लिए सात सदस्यीय समिति का गठन किया गया है। इस समिति के नेतृत्व में हर वार्ड में चार युवाओं की टीम गठित की जाएगी। वे पता लगाएंगे कि किस परिवार को सबसे ज्यादा जरूरत है और फिर उस परिवार को फिर से उठ खड़ा होने में मदद करेंगे।

सात सदस्यीय समिति बनाई

भगवान महावीर जन्मकल्याण समिति ने फैसला किया है कि साल दो साल मदद करने से कुछ नहीं होगा, बल्कि परिवार के सदस्य को इस लायक बनाया जाए कि वे जीवनभर अपने परिवार का गुजारा कर सकें। इस उद्देश्य को लेकर शीघ्र ही योजना बनाई जा रही है। इसके लिए ट्रस्ट की सात सदस्यीय समिति गठित की गई है।

इसमें महेंद्र कोचर, विजय चोपड़ा, कमल भंसाली, चन्द्रेश शाह, प्रवीण जैन, निर्मल गोलछा, महावीर कोचर सदस्य बनाए गए हैं। इस समिति के द्वारा शीघ्र ही सीए, अधिवक्ता, व्यापार विशेषज्ञ, बैंक-बीमा आदि मामलों के विशेषज्ञों-समन्वयकों और बुद्धिजीवियों को शामिल किया जा रहा है।

ऐसे करेंगे मदद

ट्रस्ट के प्रमुख महेंद्र कोचर और विजय चोपड़ा ने बताया कि यह केंद्रीय समिति समाज के ऐसे संकटग्रस्त जैन परिवारों की सहायता करेगी। उन परिवारों में जो भी बड़ा सदस्य चाहे वह महिला हो या पुरुष, उसे भावी जीविकोपार्जन के लिए अनुकूल विकल्प सुझाकर उसी दिशा में बढ़ने सहायता पहुंचाई जाएगी। समिति के सदस्य देखेंगे कि उस परिवार के मुखिया को बीमा राशि कैसे दिलाई जाए।

बैंक में यदि फिक्स डिपाजिट है, तो उसे निकालने के लिए कैसे कागजात बनाएं। यदि मुखिया के नाम कुछ नहीं है तो उस परिवार का भरण पोषण करने सदस्य को सक्षम बनाया जाए। कौन सा व्यवसाय उनके अनुकूल होगा। यदि उस परिवार का मुखिया कोई पैतृक या पुराने व्यवसाय का संचालन कर रहा था, तो उस व्यवसाय का संचालन किस तरह किया जाए।

Posted By: Shashank.bajpai
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.