छत्‍तीसगढ़ में पदोन्‍नति की मांग को लेकर व्याख्याता संघ का प्रदर्शन तीन दिसंबर को

Updated: | Thu, 02 Dec 2021 06:16 PM (IST)

रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि) । छत्‍तीसगढ़ में पदोन्‍नति की बाट जोह रहे व्याख्याताओं के सब्र का बांध टूट गया। अब वे आंदोलन की राह पर चल पड़े हैं। पहले चरण में तीन दिसंबर यानी शुक्रवार को रायपुर के बूढ़ा तालाब परिसर में दोपहर 12 बजे से प्रांत व्यापी धरना प्रदर्शन कर अपनी आवाज बुलंद करेंगे। प्रदर्शन को लेकर व्‍याख्‍याता संघ के प्रदेश अध्यक्ष राकेश शर्मा, प्रवक्ता जितेंद्र शुक्ला और महामंत्री राजीव वर्मा ने बताया कि प्रदेश के शिक्षा विभाग में छह और ट्राइबल में वर्षों से प्राचार्य पद पर पदोन्‍नति नहीं हुई।

लंबे समय से व्याख्याता पदोन्‍नति का इंतजार कर रहे हैं लेकिन शासन के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही है। विभिन्न माध्यमों से विभाग और शासन तक बात पहुंचाई गई पर कोई ऐसी पहल नहीं की गई जिससे उन्हें पदोन्‍नति मिल सके। अब आंदोलन के माध्यम से शासन का ध्यान आकृष्ट किया जाएगा।

ढाई हजार स्कूलों में प्राचार्यों के पद खाली

छत्‍तीसगढ़ प्रदेश के ढाई हजार स्कूलों में प्राचार्य का पद खाली है। इन हजारों स्‍कूलों में व्याख्याता ही प्राचार्य के दायित्व का निर्वहन कर रहे हैं। प्रदेश के हर विभागों में पदोन्‍नति की गई यहां तक की शिक्षा विभाग में प्रधानपाठक, शिक्षक पदों पर पदोन्‍नति हुई परंतु प्राचार्य पदोन्‍नति अटका हुआ है। अधिकांश व्याख्याता समयमान वेतनमान पाकर प्राचार्य की बेसिक सैलरी को भी पार कर चुके हैं। छत्‍तीसगढ़ शासन पर पदोन्‍नति देने से कोई आर्थिक भार भी नहीं आएगा। इसके बाद भी पदोन्न्त नहीं करना समझ से परे है। इस कारण प्रदेश के व्याख्याता हड़ताल करने को मजबूर हो गए हैं।

Posted By: Kadir Khan