HamburgerMenuButton

Swachh Bharat Mission: वार्ड में गिनती के मिले सफाई कर्मी, ठेकेदार पर कार्यवाई कर खानापूर्ति

Updated: | Thu, 17 Jun 2021 08:02 PM (IST)

रायपुर। Swachh Bharat Mission: स्वच्छ सर्वेक्षण के नाम पर रायपुर निगम करोड़ों रुपये फूंक रहा है। मगर, उसके बाद भी स्वच्छता रैकिंग के उच्च पायदान पर नहीं पहुंच पा रही है। क्योंकि निगम के अधिकारी और कर्मचारी ही निगम की मेहनत पर पानी फेर रहे हैं। निगम के वार्डों में गिनती के ही सफाई कर्मी पहुंच रहे हैं। सफाई कर्मियों की निगरानी और वार्डों की सफाई पर नजर रखने के लिए जोनल हेल्थ अधिकारी, स्वास्थ्य निरीक्षक और सुपरवाइजर की ड्यूटी लगाई गई है। मगर, वे अपनी जिम्मेदारी बखूबी नहीं निभा रहे हैं।

निगम के स्वास्थ्य अधिकारी ने गुरुवार को निगम के छह वार्डों में औचक निरीक्षण किया, तब इसका खुलासा हुआ। स्वास्थ्य अधिकारी ने जिम्मेदारों पर कार्यवाई करने के बजाय ठेकेदार पर जुर्माना लगाकर खानापूर्ति कर दी है। ज्ञात हो कि रायपुर नगर निगम के 70 वार्ड में सफाई की जिम्मा अलग-अलग ठेकेदार को सौंपा गया है। कागजों में औसतन निगम के एक वार्ड 40 सफाई कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है।

मगर, वार्डों में गिनती के ही सफाई कर्मी पहुंच रहे हैं और निगम के जोन अधिकारियों को इसकी भनक तक नहीं है। ऐसे में नगर की साफ-सफाई भगवान भरोसे ही चल रही है। निगम के स्वास्थ्य अधिकारी ने गुरुवार को वार्ड क्रमांक 7, 8, 9, 31, 32, 33 में संख्या के मुताबिक सफाई कर्मी नहीं पाए गए। इस पर सफाई ठेकेदारों पर कुल 65,000 हजार रुपये का जुर्माना वसूला गया। साथ ही सफाई व्यवस्था सुधारने के लिए संबंधित जोनों के जोन स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं।

इन वार्डों में नदारत थे सफाईकर्मी

- रायपुर नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी विजय पाण्डेय गुरुवार को कुशाभाऊ ठाकरे वार्ड नंबर सात में औचक निरीक्षण करने पहुंच गए। इस दौरान उन्होंने उपस्थित ठेका सफाई कर्मचारियों की गिनती करवाई, तो 50 में से सिर्फ 29 सफाई कामगार ड्यूटी पर मिले, बाकि के 21 ठेका सफाई कामगार ड्यूटी पर अनुपस्थित पाए गए। वार्ड क्रमांक सात के सफाई ठेकेदार पर दस हजार रुपये का जुर्माना रुपये का जुर्माना लगाया है।

- पंडित मोतीलाल नेहरू वार्ड नंबर आठ में गिनती करवाने पर ड्यूटी पर वार्ड के लिए निर्धारित 36 में से 18 सफाई कामगारों के ड्यूटी पर उपस्थित एवं 18 ठेका सफाई कर्मचारियों के ड्यूटी पर अनुपस्थित मिलने पर वार्ड के सम्बंधित सफाई ठेकेदार पर पंद्रह हजार रुपये जुर्माना का निर्देश दिया।

- नेताजी सुभाषचंद्र बोस वार्ड नंबर 31 एवं महर्षि वाल्मीकि वार्ड नंबर 32 में गिनती करवाने पर दोनों वार्ड में 36-36 ठेका सफाई कामगारों में से कर्तव्य पर 28-28 सफाई कामगार उपस्थित मिले एवं वार्ड 31 एवं 32 दोनों में ही आठ-आठ सफाई कामगार कर्तव्य पर अनुपस्थित पाए गए। दोनों ठेकेदारों पर दस-दस हजार का जुर्माना लगाया गया।

- शहीद वीरनारायण सिंह वार्ड नंबर 33 में 35 सफाई कामगारों की ड्यूटी है। स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा मौके पर गिनती कराने पर सिर्फ 26 कर्मचारी ही ड्यूटी पर पाए गए। ठेकेदार पर दस हजार का जुर्माना वसूला गया।

- डॉ. भीमराव आंबेडकर वार्ड नंबर नौ में कुल 40 सफाई कर्मियों को सफाई का जिम्मा सौंपा गया है। स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा गिनती कराए जाने पर 40 में से 28 सफाई कामगार ड्यूटी पर उपस्थित मिले एवं 12 सफाई कर्मी नदारत मिले। ठेकेदार पर दस हजार का जुर्माना लगाया गया है।

फैक्ट फाइल

- रायपुर नगर निगम में कुल 70 वार्ड आते हैं

- रायपुर शहर की जनसंख्या करीब 15 लाख के आस-पास है

- रायपुर नगर निगम अंतर्गत कुल घर साढ़े तीन लाख आते हैं

- निगम के 70 वार्डों में अलग-अलग सफाई ठेकेदारों को ठेका

- वार्ड में जोन अधिकारियों की मिली भगत से चल रहा है खेल

वर्जन

कई वार्डों में सफाई कर्मियों की जांच की तो सफाई कर्मी संख्या के मुताबिक नहीं पाए गए। जबकि वार्ड में साफ-सफाई और कर्मचारियों पर नजर रखने के लिए जोनल हेल्थ अधिकारी, स्वास्थ्य निरीक्षक और सुपर वाइजर की ड्यूटी लगाई गई है। इनकी भी जिम्मेदारी बनती है इसलिए इनके ऊपर भी कार्यवाई के लिए प्रस्तावित किया जाएगा।

- विजय पाण्डेय, स्वास्थ्य अधिकारी रायपुर नगर निगम

वर्जन

- नगर निगम सफाई के नाम पर करोड़ों रुपये खर्च कर रहा है। उसके बाद भी निगम के अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं। यह सब मिली भगत से हो रहा है। निगम में अधिकारियों पर नियंत्रण नहीं है। अधिकारी सब अपने मन से कर रहे हैं। इसलिए यह नौबत आई है।

- मीनल चौबे, नेता प्रतिपक्ष रायपुर नगर निगम

Posted By: Shashank.bajpai
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.