राष्ट्रीय पर्यटन दिवस : छत्‍तीसगढ़ के हरे-भरे जंगल, जलप्रपात की सुंदरता के मुरीद हो रहे सैलानी

2019 से 2021 के बीच छत्‍तीसगढ़ में ढाई करोड़ पर्यटक पहुंचे। दिसंबर तक कुल 152 पर्यटन स्थलों में 46 लाख घरेलू और छह विदेशी पर्यटक।

Updated: | Tue, 25 Jan 2022 07:05 PM (IST)

रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। छत्तीसगढ़ प्राचीन स्मारकों, बौद्ध स्थलों, दुर्लभ वन्य प्राणियों, नक्काशीदार मंदिरों, राजमहलों, गुफाओं एवं शैलचित्रों से भी परिपूर्ण है। भारत के हृदय स्थल में स्थित उत्तर से लेकर दक्षिण तक हरे-भरे जंगल, जलप्रपात, झरने, विह्गम जलाशय सहित प्रकृति की नैसर्गिक सुंदरता को करीब से निहारने और यहां की संस्कृति, ऐतिहासिक धरोहरों को समझने के साथ आदिवासी समाज के जनजीवन को जानने और उनकी कलाकृतियों को देखने का भरपूर आनंद पर्यटक उठाते हैं।

यहीं कारण है कि छत्तीसगढ़ की खूबसूरती देश के पर्यटकों के साथ सात-समंदर पार विदेशी पर्यटकों को अपनी ओर खींच ला रही है। छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल द्वारा जारी आंकड़े के अनुसार 2019 से 2021 के बीच पर्यटकों की संख्या देखे तो कुल दो करोड़ 54 लाख 11 हजार 440 घरेलू और 9145 विदेशी पर्यटकों ने खूबसूरती देखी है।

अक्टूबर से मार्च का मौसम पर्यटकों से रहते गुलजार

पर्यटन मंडल के अधिकारियों ने बताया कि सबसे ज्यादा पर्यटक अक्टूबर से मार्च महीने पहुंचते है। यहां जलप्रपात, मैनपाट समेत आदिवासियों की कला-संस्कृति और रहन-सहन आदि वाफिक होते है। वहीं राज्य में सरगुजा से लेकर बस्तर तक पर्यटन स्थल है। इन पर्यटन स्थलों पर हर माह पर्यटकों का आना जाना लगा होता है। आंकड़े के अनुसार अक्टूबर से लेकर मार्च के मौसम में पर्यटकों के आने का सिलसिला कभी-कभी 10 लाख से भी ऊपर पहुंच जाता है।

जानें किस साल कितने आए पर्यटक

साल 2019 में कुल 131 पर्यटन स्थलों में एक करोड़ 73 लाख घरेलू और 6817 विदेशी पर्यटक छत्तीसगढ़ आए। 2020 में ही अक्टूबर में एक लाख 33 हजार, नवंबर में एक लाख 66 हजार और दिसंबर माह में लगभग दो लाख पर्यटकों ने छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थलों को देखा। कोरोना संक्रमण की वजह से मार्च 2020 से अन्य महीनों में लाकडाउन की वजह से पर्यटकों का आना जाना कम रहा। 2021 में जनवरी से लेकर दिसंबर माह तक कुल 152 पर्यटन स्थलों में 46 लाख घरेलू और छह विदेशी पर्यटक छत्तीसगढ़ आए।

छत्‍तीसगढ़ में प्रसिद्ध पर्यटन स्थल

राज्य में बाहर से आने वाले पर्यटकों को सर्वाधिक पसंद आने वाले स्थानों में अचानकमार टाइगर रिजर्व बारनवापारा, वन्य जीव अभ्यारण पामेड़, भोरमदेव कवर्धा, तमोरपिंगला अभ्यारण, सेमरसोत वन्यजीव अभ्यारण सीतानदी अभ्यारण, दंतेश्वरी मंदिर दंतेवाड़ा, प्रज्ञागिरी मंदिर, लक्ष्मण मंदिर सिरपुर, बारसूर गणेश प्रतिमा दंतेवाड़ा, चित्रकोट जल प्रपात, तीरथगढ़ जलप्रपात बस्तर, मैनपाट, कुतुंब मीनार से उंचा जैतखाम एवं गुरू घासीदास की जन्म स्थली गिरौधपुरी धाम, बौद्ध तीर्थ स्थल सिरपुर आदि पर्यटन स्थल है।

पर्यटन स्थलों तक पहुंचाने बस

आज राष्ट्रीय पर्यटन दिवस के मौके पर आइसीआइसीआइ बैंक के सीएसआर मद से प्राप्त बस को पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू द्वारा हरी झंड़ी दिखाकर रवाना करेंगे। ये बस अब पर्यटन स्थल तक सैलानियों को पहुंचाई जाएगी। इसके अलावा छत्तीसगढ़ टूरिम्ज बोर्ड के कार्यालय में अंतर कार्यालयीन गतिविधियां भी आयोजित की जाएगी।

Posted By: Kadir Khan