Poetry Seminar In Raipur: एक शाम राम के नाम काव्य गोष्ठी में कवि बोले- राममयी हो आचरण तो राममय हो जाओगे

Updated: | Sun, 17 Oct 2021 04:35 PM (IST)

Poetry Seminar In Raipur: रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आयोजित कवि गोष्‍ठी में कवियों ने अपनी रचनाओं से समां बांधा। दशहरा पर्व के मौके पर शनिवार को एक शाम राम के नाम काव्य गोष्ठी का आयोजन रायपुर के पुरानी बस्ती स्थित जैतूसाव मठ में किया गया। गोष्ठी की अध्यक्षता छत्तीसगढ़ हिंदी साहित्य मंडल के अध्यक्ष अमरनाथ त्यागी ने की। कार्यक्रम का संचालन सुनील पांडे ने किया। 10 से अधिक कवियों ने अपनी रचनाओं में श्रीराम के चरित्र से प्रेरणा लेने की सीख दी।

कवि तेजपाल सोनी की कविता

राममयी हो आचरण तो राममय हो जाओगे

कर ना सके यदि ऐसा तो बहुत पछताओगे।

होवे पूरी हर कामना प्रभु, यत्न को ऐसी धार दो

इससे कोई भी ना छूटे मंगल की ऐसी बहार हो।

कवि मोहन श्रीवास्तव

रामजी का नाम लेके काम सारे कीजिए।

जागते सोते सदा ही, नाम प्यारा लीजिए।।

कवि अमरनाथ त्यागी

मुसलमान को जैसे काबा लगता बड़ा लुभावन है

तपोभूमि ननकाना की, सिखों का पावन धन है।

बोधि वृक्ष जैसे बौद्धों को सारनाथ अति प्यारा है

हर हिंदू को रामजन्म भूमि, आंखों का तारा है।

कवि सुनील पांडे

परंपराओं के पत्थर जब संस्कारो के सीमेंट से जुड़ते हैं

राम जैसे पुरुषोत्तम, सीता जैसे सर्वोत्तम चरित्र गढ़ते हैं।

कवयित्री लतिका भावे

अयोध्या में तुम्हारा अनोखा है मान

भक्तों के मन में बसे तुम आन।

जय जय हे राम, ब्रह्मा अनूपा धन्य तुम सत्य स्वरूपा।

नैनों में जल भर आए हैं द्वारे तिहारे

ओ प्रभु राम हमारे।

गोष्ठी में डाक्‍टर अर्चना पाठक, डाक्‍टर कमल वर्मा, शोभा मोहन श्रीवास्तव, अनिल श्रीवास्तव, छत्र सिंह बच्छावत, आशा पाठक, राजेंद्र ओझा, यशवंत यदु, मोहम्मद हुसैन, डाक्‍टर कमल वर्मा, शिवानी मैत्रा एम राधा धागे ने भी रचना पढ़ी और सबको मंत्रमुग्‍ध कर दिया।

Posted By: Kadir Khan