HamburgerMenuButton

Prime Minister Jan Aushadhi: प्रधानमंत्री जन औषधि को एम्स में रोड़ा, मरीजों को नहीं मिल पा रही है जेनेरिक दवाएं

Updated: | Tue, 22 Jun 2021 06:35 AM (IST)

आकाश शुक्ला, रायपुर। Prime Minister Jan Aushadhi: प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षी जन औषधि योजना की जहां राज्य में दुर्गति हो रही है। वहीं केंद्रीय संस्थान रायपुर एम्स में भी परियोजना को जनऔषधि केंद्र खोलने राह तक रहा है। इसके लिए प्रधानमंत्री जन औषधि परियोजना द्वारा एम्स को एक वर्ष पूर्व पत्र लिखा गया। एम्स अधिकारियों से तीन बार मीटिंग भी हुई। बावजूद बात नहीं बनी। अब अनुमति की पेच केंद्रीय मंत्रालय तक पहुंच गया है। और उदासीनता के चलते प्रधानमंत्री की जनऔषधि से लोग वंचित हो रहे हैं।

प्रधानमंत्री जन औषधि परियोजना के राज्य समन्वयक अनिश वोडितेलवार ने बताया कि योजना के तहत प्रत्येक केंद्रीय संस्थानाें में जनऔषधि केंद्र खोला जाना है। एक वर्ष पूर्व हमने केंद्र के संचालन के लिए एम्स को पत्र लिखा था। अधिकारियाें की भी तीन बार मीटिंग हुई है। उन कहना है कि यहां अमृत एजेंसी फार्मेसी का संचालन कर रही है।

ऐसे में केंद्र को उसी में सम्मिलित कर दिया जाए। लेकिन इससे योजना का शत प्रतिशत लाभ लोगों को नहीं मिल पाएगा। इसलिए हमारा विभाग स्वतंत्र रूप से संचालन करना चाहता है। अनुमति ना मिलने से अब यह मामला केंद्रीय मंत्रालय स्तर पर चला गया है।

पहले ही 50 फीसद बंद, अब 100 केंद्र का टारगेट

बता दें कि राज्य में 220 जनऔषधि केंद्र को ही अब तक स्वीकृति मिली है। इसमें भी 110 ही संचालित हो रहे। वहीं वर्ष 2021 के लिए परियोजना ने राज्य में 100 केंद्र खोलने का लक्ष्य रखा है। परिस्थितियों जिस तरह हैं, राज्य में बंद पड़े केंद्रों का फिर से संचालन और नया केंद्र खोलना जन औषधि परियोजना के लिए चुनौती बन गया है।

अमृत में नहीं मिल पाती पूरी दवाएं

एम्स में संचालित अमृत मेडिकल मेडिकल में मरीजों को कई तरह की दवाएं नहीं मिल पा रही। ऐसे में उन्हें बाहर मेडिकल स्टोर जाना पड़ रहा अमृत फार्मेसी के इंचार्ज राम खांडे ने बताया कि मांग के कारण कई दवाएं नहीं होती है। जिसका आर्डर किया जाता है। इसमें कुछ समय लगते हैं। इसलिए समस्या आ आती है। मरीजों को बाहर ना जाना पड़े हम पूरी कोशिश करते हैं।

इसे राजनीतिक चश्मे से न देखें

प्रधानमंत्री की इस महत्वाकांक्षी योजना का उददेश्य है गरीबों को सस्ते दर पर दवाएं कराना। इसे राजनीतिक चश्मे से न देखकर राज्य सरकार को व्यवस्था बनाने में ध्यान देना चाहिए। रही बात एम्स की, तो यहां हर तरह के मरीज आते हैं। अब तक तो जन औषधि केंद्र का संचालन शुरू हो जाना था। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री और प्रधानमंत्री कार्यालय को भी स्थिति के बारे में अवगत कराऊंगा। प्रबंधन से भी बात करता हूं।

-सच्चिदानंद उपासने, राष्ट्रीय महासचिव, प्रधानमंत्री जनकल्याणकारी योजना

लगातार प्रयासरत हूं

राज्य में जनऔषधि केंद्र खुले इसके लिए लगातार प्रयासरत हूं। राज्य सरकार इस ओर ध्यान दे और सहयोग करे। एम्स में अब तक केंद्र नहीं खुल पाया। इस संबंध में प्रबंधन से चर्चा करता हूं। जल्द ही यहां भी केंद्र खुलेगा।

-सुनील सोनी, सांसद, रायपुर

जनऔषधि केंद्र का संचालन शुरू होगा

जनऔषधि केंद्र खोलने की योजना है। एम्स परिसर में जगह की कोई दिक्कत नहीं है। इसके संचालन के लिए स्वीकृति केंद्रीय मंत्रालय स्तर पर ही होना है। जो प्रक्रिया में है। अनुमति के बाद जनऔषधि केंद्र का संचालन शुरू होगा।

-शिवशंकर शर्मा, पीआरओ, एम्स रायपुर

Posted By: Shashank.bajpai
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.