HamburgerMenuButton

चौंकिए नहीं, यह है छत्तीसगढ़ के बाबा रामदेव, देखेंगे तो खा जाएंगे धोखा

Updated: | Wed, 28 Oct 2020 10:24 AM (IST)

वेदप्रकाश त्रिपाठी। आज योग की चर्चा बाबा रामदेव के बिना अधूरी लगती है। देश ही नहीं, सात समंदर पार तक उनकी चर्चा है। खूब नाम है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जो न केवल बाबा रामदेव से मिलते-जुलते हैं, बल्कि उनका पहनावा भी बाबा रामदेव की तरह ही भगवा रंग की धोती, पैरों में खड़ाऊ, लंबी दाढ़ी और बाल है। एकबारगी कोई देखे तो धोखा खा जाए। करीब दो सौ शिविरों में पचास हजार से ज्यादा लोगों को योग सिखा चुके हैं। अन्य प्रांतों में भी शिविर ले चुके हैं। इतना ही नहीं, स्वदेसी का भी प्रचार करते हैं।

यहां हम बात कर रहे हैं कवर्धा जिले के पंडरिया विकासखंड के ग्राम सूढ़ा निवासी करीब 33 वर्षीय लेखूराम की। गांव के ही स्कूल में मिडिल तक की पढ़ाई की। कवर्धा के नवीन स्कूल में हाई स्कूल किया। इसके बाद पीपी कालेज में उधा शिक्षा लेने लगे। योग के प्रति उनका लगाव बचपन से था। बाबा रामदेव के बारे में पढ़ना, जानना, उनके योगाभ्यास को देखना उन्हें अच्छा लगता था। आसपास के गांवों में, स्कूलों में वे योग का शिविर भी लगाते थे। वर्ष 2010 में बाबा रामदेव के योग शिविर में लेखूराम को योगाभ्यास कराने का अवसर मिला। इसने उनकी जिंदगी का लक्ष्य ही बदल दिया। वर्ष 2011 में बीएसपी अंतिम वर्ष की पढ़ाई छोड़कर उन्होंने पूरा जीवन योग-प्राणायाम और स्वदेसी वस्तुओं के प्रचार-प्रसार को समर्पित करने का संकल्प लिया।

इसके बाद से लेखूराम लगातार शिविर आयोजित कर बधो, बूढ़े, युवा, महिलाओं सभी को योग सिखा रहे हैं। मंच पर वे जब उतरते हैं तो पहली बार देखने वाला तो जब तक बताएं न, बाबा रामदेव ही समझता रहता है। स्कूल उनके प्रमुख केंद्र हैं, जहां वे बधाों को निश्शुल्क योग सिखाते हैं। उनका मानना है कि नई पीढ़ी को संभाल लिए तो भविष्य स्वमेव उज्जवल हो जाएगा। गुजरात के अहमदाबाद में भी वे विशाल शिविर आयोजित कर चुके हैं। योग के लिए डेढ़ सौ से अधिक गांवों में वे पहुंच चुके हैं। कवर्धा के लोग इन्हें लेखू बाबा के नाम से पहचानते हैं। वे रक्तदान, नशामुक्ति, भारत माता की महाआरती, स्वच्छता अभियान जैसी सामाजिक गतिविधियों में भी सक्रिय रहते हैं। सुबह चार बजे मैसेज कर युवाओं को न सिर्फ जगाते हैं बल्कि उन्हें योग करने को भी प्रेरित करते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.