HamburgerMenuButton

Ration Scam: एपीएल कार्डधारियों के कार्ड से सबसे ज्यादा डाका

Updated: | Tue, 22 Jun 2021 03:35 PM (IST)

रायपुर। Ration Scam: कोरोना काल में राशन नहीं उठाने वाले लोगों के राशन का गोलमाल करने का मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक एपीएल राशनकार्डधारियों के कार्ड से सबसे अधिक हेराफेरी हुई है। राशन दुकानदारों ने जनप्रतिनिधि, डाक्टर, इंजीनियर, बड़े व्यापारी और पुलिस वालों के नाम पर राशन उठा लिए हैं।

अकेले एक ही वार्ड में रिद्धि सिद्धि प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार दुकान क्रमांक 441001160 से ज्यादातर लोगों के राशन के साथ हेराफेरी हुई है। शिकायत मिली है कि इलाके में 1,500 से अधिक एपीएल राशनकार्डधारियों के राशन कार्ड से राशन चोरी हुआ है।

बता दें कि यह फर्जी आहरण उच्च मध्यमवर्गीय परिवार के राशन कार्ड से अधिक किया गया, जिन्होंने सिर्फ पहचान पत्र के लिए कार्ड बनवाया और राशन उठाने नहीं जाते हैं। जैसे डाक्टर, इंजीनियर, बड़े व्यापारी, पुलिस आदि। रायपुर निगम के 70 वार्डों में से कई वार्ड में दो या दो से अधिक राशन दुकानें हैं।

केस 01

पार्षद के कार्ड से भी चार महीने का राशन चोरी

राजधानी के पं. माधवराव सप्रे वार्ड के पार्षद वीरेंद्र देवांगन के राशन कार्ड क्रमांक 223871922204 से भी चार महीने का राशन उठ गया है। उनके पास एपीएल कार्ड है। उनके परिवार में चार सदस्य हैं और प्रति माह 35 किलो चावल प्रति 10 रुपये के हिसाब से मिलने का प्रविधान है। पार्षद ने बताया कि उन्होंने कोई राशन उठाया ही नहीं और उनके नाम से राशन उठा लिया।

केस 02

एक महीने पहले ही मौत और जारी किया चावल

शिवम विहार रायपुर के निवासी दौलत सिंह ठाकुर की मौत पांच अप्रैल 2021 को कोविड से हो चुकी है और उनके नाम से 24 अप्रैल 2021 को उनके राशन कार्ड क्रमांक 223876867126 से फर्जी आहरण कर लिया गया। यह राशन रिद्धि सिद्धि प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार से निकाला गया है। इसी तरह सत्यम विहार के सूर्यकांत देवांगन की 13 मार्च, 2021 को मौत हो गई और 27 मार्च को इनके नाम से राशन निकाला गया है। इसी तरह अन्य मृतकों के नाम से भी राशन निकाला गया है।

केस 03

भौतिक सत्यापन की उठी मांग

रायपुरा निवासी मीरा देवांगन के एपीएल राशन कार्ड क्रमांक 223874743516 से पांच महीने का राशन गायब है। उनका कहना है कि कोरोना काल में वे राशन लेने नहीं गए थे और आनलाइन जब अपनी रिपोर्ट देखी तो चौंक गईं। उनका कहना है कि यह राशन कार्ड के साथ बड़ी हेराफेरी है। ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

स्थानीय पार्षद ने राशन कार्ड के भौतिक सत्यापन के लिए कलेक्टर से आवेदन भी किया है।

केस 04

आठ महीने से नहीं लिया राशन, खा गया कोटेदार

राजधानी के डीडी नगर स्थित दुकान क्रमांक 441001035 से राशनकार्डधारी क्रमांक 223877009696 ने केवल एक बार राशन निकाला है, लेकिन उनके कार्ड से चार बार राशन निकलना आनलाइन दिखाया जा रहा है। उनके परिवार से किसी ने राशन नहीं उठाया है। बिना अंगूठा का छाप और हस्ताक्षर के ही राशन निकालने से परिवार के लोग हतप्रभ रह गए।

आप भी जांचें अपना कार्ड, हमें करें शिकायत

आपके पास भी राशन कार्ड है और आपने पिछले एक साल से राशन का आहरण नहीं किया है तो आप खाद्य विभाग की वेबसाइट में जाकर कोर पीडीएस का आप्शन ओपन करें। नया पेज ओपन होने पर राइट साइट में लाभांवित संबंधित रिपोर्ट को क्लिक करें। फिर एक और नया पेज ओपन होगा। यहां आपको लाभांवित हेतु मिनी स्टेटमेंट में क्लिक करना होगा। इसके बाद प्रदर्शित होने वाले अगले पेज में आपको अपने 12 अंकों के राशनकार्ड का नंबर लिखकर रिपोर्ट में क्लिक करना है। इसके बाद आपके राशन कार्ड से आहरण किए गए राशन की डिटेल स्क्रीन पर नजर आएगी। अगर आपके राशन कार्ड से भी फर्जी आहरण हुआ है तो आप कलेक्टर, खाद्य विभाग और नईदुनिया को 90000000000 में शिकायत कर सकते हैं।

वर्जन

'जिन कार्डधारियों को राशन नहीं मिला है, उनकी जांच की जाएगी। आप हमें उन राशनकार्डधारियों के नाम बताइए, जिन्हें राशन नहीं मिला है। कार्रवाई की जाएगी।' - तरुण राठौर, प्रभारी खाद्य नियंत्रक, रायपुर

'रिद्धि सिद्धि प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार दुकान से कइयों का राशन उठा दिखाया जा रहा है। इस मामले में मुख्यमंत्री, खाद्य मंत्री और कलेक्टर को सभी राशनकार्डों का भौतिक सत्यापन करना चाहिए।'

- वीरेंद्र देवांगन, माधव राव सप्रे वार्ड, रायपुर

'आप जब तक मुझे राशन कार्ड नहीं दिखाएंगे, तब तक मैं कुछ नहीं कह सकता हूं। ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है। सभी को राशन दिया गया है। - अभिषेक महाकालकर, संचालक, रिद्धि सिद्धि प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार

Posted By: Azmat Ali
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.