HamburgerMenuButton

ENT Camp: धरसींवा में हुआ विशेष श्रवण जांच शिविर का आयोजन, 124 लोगों की हुई स्क्रीनिंग

Updated: | Sat, 06 Mar 2021 05:46 PM (IST)

रायपुर। ENT Camp: राष्ट्रीय बधिरता रोकथाम एवं नियंत्रण कार्यक्रम के तहत धरसींवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में विश्व श्रवण दिवस पखवाड़ा के तहत कान रोग के स्क्रीनिंग शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान 124 लोगों के कान की जांच की गई। इस स्क्रीनिंग का उद्देश्य जन समुदाय में कान की समस्याओं को जांचना और उसके प्रति जागरूकता लाना था। साथ ही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टर नर्स और मितानिन द्वारा लोगों को कान रोग की पहचान एवं इसके लक्षण से संबंधित जानकारी भी दी गई।

स्क्रीनिंग शिविर का आयोजन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मीरा बघेल एवं सिविल सर्जन डॉ. पीके गुप्ता के मार्गदर्शन में किया गया। स्क्रीनिंग की जानकारी देते हुए पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल ऑफिसर डॉ. नीति वर्मा ने बताया कि राष्ट्रीय बधिरता रोकथाम एवं नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत धरसींवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में विश्व श्रवण दिवस पखवाडा का आयोजन किया गया था, जिसमें कान की सामान्य और जटिल समस्याओं की स्क्रीनिंग के लिए निशुल्क जांच शिविर का आयोजन किया गया था।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर 124 लोगों के कानों की जांच की गई। 40 लोगों की पीटीए (प्योरटोन ऑडियोमेट्री) जांच की गई। वहीं, 16 लोगों को श्रवण सहयोगी यंत्र के उपयोग करने की सलाह दी गई। जांच में आए दो लोगों को कान के पर्दे में छेद की सर्जरी (लोबुलोप्लास्टी) और चार लोगों को कान में वैक्स की सफाई के लिए कालीबाड़ी स्थित जिला चिकित्सालय रेफर किया गया।

डॉ. वर्मा ने कहा कि शिविर समापन के बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टर नर्स और क्षेत्र की मितानिन को कान रोगों की पहचान और इसके लक्षण से संबंधित जानकारी भी प्रदान की गई। इसका उद्देश्य यह था कि समय रहते कान रोग के लक्षणों की पहचानकर उसका उचित इलाज कराकर बहरेपन या अन्य गंभीर रोग से लोगों को बचाया जा सके।

जिले में बेहतर इलाज मुहैया कराने के उद्देश्य से राज्य स्तर से ईएनटी (कान-नाक-गला) पीजीएमओ चिकित्सक तथा ऑडियोलॉजिस्ट यूनिट को कार्यक्रमों की मार्गदर्शिका अनुरूप प्रशिक्षित किया गया है।

आगामी शिविर

नौ मार्च 2021 को विकासखण्ड अभनपुर के ‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर यह शिविर आयोजित किया जाएगा। भारत सरकार और छत्तीसगढ़ शासन स्तर से कोविड-19 महामारी से सुरक्षा के लियें जारी दिशा-निर्देशों का गतिविधियों के दौरान कड़ाई से पालन कर शिविर का आयोजन किया जाएगा।

कान में परेशानी के कारण

अत्यधिक शोर, हॉर्न, लाउडस्पीकर, तेज आवाज में संगीत सुनने, पटाखे, कान में संक्रमण जैसे मवाद आना, कान का दर्द, कान में मैल का अधिक होना, दुर्घटना के समय सर या कान में चोट, मस्तिष्क ज्वर मेनिन्जाइटिस के कारण भी कान में सुनाई की शिकायत हो सकती है।

Posted By: Shashank.bajpai
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.