UP School Reopening: 1 जुलाई से खुलेंगे कक्षा 1 से 8 तक के स्कूल, बच्चों को अभी जाने की इजाजत नहीं

Updated: | Wed, 30 Jun 2021 09:46 AM (IST)

UP School Reopening: उत्तर प्रदेश में 20 मार्च से बंद पड़े स्कूलों को लेकर अब खबर है कि बेसिक शिक्षा परिषद के तहत राज्य में लगभग 100 दिनों से स्कूलों के बंद रहने के बाद 1 जुलाई से कक्षा 1 से लेकर कक्षा 8 तक की क्लास के लिए स्कूल को खोला जा रहा है। लेकिन इस दौरान छात्र को अभी स्कूल जाने की इजाजत नहीं दी गई है। दरअसल इन स्कूलों में शिक्षामित्र के कार्य से जुड़े शिक्षक व कर्मचारी ही स्कूल पहुंचेंगे। उत्तर प्रदेश में बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित 1 जुलाई से राज्य सरकार कक्षा 1 से 8 तक के स्कूल फिर से खोलने जा रही है लेकिन फिलहाल छात्रों को इस दौरान स्कूल जाने की मनाही है। उन्हें केवल ऑनलाइन कक्षाओं के माध्यम से पढ़ाया जाएगा।

अगले आदेश तक बच्चे रहेगें घर पर

राज्य की बेसिक शिक्षा परिषद की ओर से सभी जिलों के शिक्षा अधिकारी एवं संभागीय सहायक शिक्षा निदेशक को इस संबंध में विस्तृत निर्देश जारी कर दिए गए हैं। परिषद द्वारा जारी निर्देशों मे साफतौर पर कहा गया है कि 1 जुलाई से स्कूल खुलेंगे लेकिन अगले आदेश तक बच्चे स्कूल नहीं आएंगें। तब तक इन बच्चों के लिए मिशन प्रेरणा के तहत ई-पाठशाला संचालित की जाएगी। इसमें बच्चों को ऑनलाइन कक्षाओं के माध्यम से पढ़ाया जाएगा।

इन कार्यों के लिए स्कूलों को खोला जा रहा है

बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखकर उनकी पढ़ाई किसी भी रूप से बाधित न हो और आगे की प्रक्रिया में समय की अहमियत को समझते हुए परिषद द्वारा इस निर्णय को बच्चों व स्कूलों से संबधित कार्य को पूरा करने के लिए लिया गया है ताकि जब स्कलों को पूरी तरह से खोला जाए तो दूसरे कामों में बिना समय गवाएं बच्चों की पढ़ाई पर पूरा ध्यान दिया जाए। इसलिए स्कूलों में इस सत्र में आठवीं कक्षा पास कर चुके बच्चों को कक्षा 9वीं में प्रवेश के लिए टीसी देने का कार्य, माध्यन्ह भोजन व स्कूल ड्रेस की राशि बच्चों के बैंक खाते में पहुंचाने का कार्य व निःशुल्क पाठ्यपुस्तक वितरण का कार्य आदि करने के लिए खोला जा रहा है।

बेसिक शिक्षक संघ के संभाग अध्यक्ष दिलीप पांडेय का कहना है कि उन्होंने कहा कि गर्मी की छुट्टियों में बच्चों की सारी डिटेल भर दी गई, कोविड-19 के दौरान पंचायत चुनाव हुए और अब जब स्कूल फिर से खुल रहे हैं तो ऑनलाइन कक्षाएं चलानी होंगी, वहीं दूसरी ओर पांचवीं और आठवीं कक्षा के बाकी बचे बच्चों को भी टीसी देने का काम पूरा करना होगा।

Posted By: Arvind Dubey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.