भिंड जहरीली शराब कांडः आरोपित के निर्माणाधीन मकान को दो जेसीबी से ध्वस्त किया, नींव उखाड़ी

जहरीली शराब कांड में आरोपित के 1250 वर्गफीट के निर्माणाधीन मकान को प्रशासन ने नगर पालिका की दो जेसीबी से जमींदोज कर दिया है।

Updated: | Sun, 23 Jan 2022 08:11 PM (IST)

भिंड, नईदुनिया प्रतिनिधि। जहरीली शराब से चार मौतों पर प्रशासन ने सख्ती दिखाई है। जहरीली शराब कांड में आरोपित के 1250 वर्गफीट के निर्माणाधीन मकान को प्रशासन ने नगर पालिका की दो जेसीबी से जमींदोज कर दिया है। निर्माणाधीन मकान की नींव तक खोदी गई है, ताकि अवैध और जहरीली शराब का कारोबार करने वालों के मंसूबे पूरी तरह से नेस्तोनाबूद हो जाएं। जिले में इस तरह की यह पहली कार्रवाई है। पुलिस ने जहरीली शराब कांड में अब तक चार आरोपितों को गिरफ्तार किया है। कार्रवाई के दौरान एसडएम उदय सिंह सिकरवार, सीएसपी आनंद राय, नपा सीएमओ सुरेंद्र शर्मा, देहात टीआइ रामबाबू सिंह यादव, शहर कोतवाली का बल मौजूद रहा।

रौन थाना क्षेत्र के इंदुर्खी गांव में 13 जनवरी से 18 जनवरी तक जहरीली शराब पीने से चार लोगों की मौत हुई है। यह जहरीली शराब भिंड में स्वतंत्र नगर के पीछे खेत में बने मकान में बनाई गई थी। पुलिस ने जहरीली शराब कांड में चार आरोपितों को गिरफ्तार किया है। शराब बनाए जाने वाले स्थान के पास ही आरोपित धर्मवीर सिंह बघेल का 1250 वर्गफीट क्षेत्रफल में निर्माणाधीन मकान था। जहरीली शराब से मौतों पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नाराजगी जताई तो प्रशासन ने उसी दिन धर्मवीर बघेल के मकान को चिन्हित करवा लिया था। दो दिन में आरोपित के परिवार को नगरपालिका की ओर से नोटिस देकर मकान निर्माण को लेकर दस्तावेज पेश करने के लिए कहा गया। मकान बनाने के लिए परमिशन नहीं ली गई थी। साथ ही, जिस जमीन पर मकान का निर्माणाधीन कराया जा रहा था, उसका डायवर्सन नहीं कराया गया था। इन्हीं कमियों को आधार बनाकर नगरपालिका सीएमओ सुरेंद्र शर्मा, सहायक इंजीनियर दीपक अग्रवाल रविवार दोपहर करीब तीन बजे अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। दो जेसीबी की मदद से आरोपित के निर्माणाधीन मकान को ध्वस्त कर दिया गया। इस दौरान भारी पुलिस बल मौजूद रहा। पुलिस बल की मौजूदगी देखकर कोई भी विरोध करने के लिए नहीं आया।

20 वर्ष में बना मकान, 10 मिनट में जमींदोज: रिटायर पुलिस अधिकारी बदन सिंह बघेल ने बताया बेटा धर्मवीर सिंह बघेल उनसे 20 वर्ष पहले ही अलग हो गया था। पिता और परिवार से अलग होने के बाद धर्मवीर गलत कार्यों में लिप्त हो गया। अधिकारियों का कहना है कि अवैध शराब के कारोबार के जरिए ही धर्मवीर ने 1250 वर्गफीट क्षेत्रफल में मकान बनवाना शुरू किया था। मकान बनाने में अब तक करीब पांच-छह लाख रुपये खर्च कर चुका था। 20 वर्ष में, जो मकान बना, वह नपा की दो जेसीबी ने 10 मिनट में जमींदोज कर दिया।

कार्रवाई से पहले सीएमओ ने पिता से पूछा ऐतराज तो नहींः जहरीली शराब के आरोपित धर्मवीर सिंह बघेल का निर्माणाधीन मकान तोड़े जाने के दौरान नगरपालिका सीएमओ सुरेंद्र शर्मा ने आरोपित के पिता बदन सिंह बघेल से पूछा निर्माणाीधीन मकान पर कार्रवाई करेंगे, आपको कोई ऐतराज तो नहीं है। आरोपित के पिता ने कहा कि उन्हें कोई ऐतराज नहीं है। उन्होंने सीएमओ से कहा कि उससे हमारा 20 वर्ष से कोई वास्ता नहीं है। पिता से इस बात को करने के बाद नगरपालिका ने रविवार को यह कार्रवाई कर दी है।

वर्जन:

अवैध शराब कारोबार के आरोपित ने मकान निर्माण के लिए नपा से कोई अनुमति नहीं ली थी। मकान बनाने से पहले जमीन का डायवर्सन नहीं कराया था। अतिक्रमण विरोधी और एंटी माफिया अभियान के तहत निर्माणाधीन मकान तोड़ा गया है।

उदय सिंह सिकरवार, एसडीएम, भिंड-अटेर

Posted By: vikash.pandey