HamburgerMenuButton

Bhopal Gas Tragedy: भोपाल गैस पीड़ित 4500 वृद्ध कल्याणी महिलाओं के जीवन में फिर से पेंशन लाएगी खुशी

Updated: | Wed, 02 Dec 2020 11:26 AM (IST)

भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि, Bhopal Gas Tragedy। भोपाल गैस कांड में अपने पति को गंवा चुकी 4500 गैस पीड़ित वृद्ध कल्याणी महिलाओं के जीवन में खुशी लाने वाली पेंशन फिर से मिलने लगेगी। सरकार ने इसके लिए कवायद तेज कर दी है। 300 महिलाओं के नाम राज्य में कल्याणी महिलाओं को दी जाने वाली निराश्रित पेंशन सूची में जोड़ लिए हैं। बाकी के नामों को जोड़ने की प्रक्रिया तेजी से आगे बढ़ाई जा रही है। यह पेंशन दिसंबर 2019 से बंद है। इसकी वजह पेंशन देने के लिए केंद्र द्वारा दिया गया बजट खत्म होना और पेंशन देने की अवधि समाप्त होना है। पेंशन बंद होने से वृद्ध महिलाएं परेशान हैं। उम्र के आखिरी पड़ाव में राशन-पानी का इंतजाम करना मुश्किल हो गया है। दिक्कतों का सामना कर रही हैं। राज्य व केंद्र सरकार से पेंशन चालू कराने का आग्रह कर चुकी हैं।

बता दें कि केंद्र सरकार ने कल्याणी महिलाओं को पेंशन देने के लिए 30 करोड़ रुपये दिए थे। उस उक्त राशि से पांच साल तक पेंशन दी जानी थी। उसके बाद भी 30 करोड़ रुपये के ब्याज की कुछ राशि बची थी, इसलिए 2 साल तक पेंशन की अवधि और बढ़ा दी थी। हाल ही में गैस राहत एवं पुनर्वास मंत्री विश्वास सारंग ने कहा था कि गैस पीड़ित वृद्ध कल्याणी महिलाओं को पुन: 1000 रुपये पेंशन देंगे। इसके बाद ही विभाग ने प्रक्रिया तेज की है। गैस राहत एवं पुनर्वास विभाग के संचालक बसंत कुर्रे ने बताया कि इन महिलाओं को निराश्रित पेंशन के तहत जोड़ा जा रहा है। इसमें 600 रुपये प्रतिमाह मिलते हैं। 400 रुपये देने के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजेंगे। इस तरह सहमति मिलने के बाद पेंशन बढ़कर 1000 रुपये हो जाएगी।

इस संबंध में भोपाल गैस पीड़ित निराश्रित पेंशन भोगी संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष बालकृष्ण नामदेव का कहना है कि 11 महीने से पेंशन बंद है। केंद्र व राज्य सरकार को बार-बार अवगत करवा रहे हैं। सरकार को चाहिए कि जब तक पेंशन चालू नहीं हो जाती, तब तक राशन कार्ड व पात्रता पर्ची से वंचित महिलाओं को राशन उपलब्ध कराना चाहिए।

Posted By: Ravindra Soni
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.