प्रोत्साहन राशि बंद करने से नाराज आशा कार्यकर्ताओं ने बंद किया काम

Updated: | Sat, 04 Dec 2021 10:18 PM (IST)

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। पूरे प्रदेश में पहले कोरोना मरीजों का और अब टीकाकरण सर्वे का काम करने वाली आशा कार्यकर्ताओं की प्रोत्साहन राशि बंद करने से नाराज कार्यकर्ताओं ने शनिवार को प्रदेश्ा भर में काम बंद कर आंदोलन किया। उन्होंने कहा कि अभ्ाी एक दिन का सांकेेतिक प्रदर्शन किया है, लेकिन फिर से यह राशि बहाल नहीं की गई तो चरणबद्ध आंदोलन किया जाएगा। आशा कार्यकर्ता और सहयोगिनी 10 दिसंबर को मानव अधिकार दिवस को काला दिवस के रूप मनाएंगी।

मध्य प्रदेश आशा/आशा सहयोगिनी श्रमिक महासंघ की अध्यक्ष लक्ष्मी कौरव ने कहा कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिश्ान की तरफ से एक आदेश जारी कर कहा गया है कि सितंबर से सर्वे के बदले आशा कार्यकर्ता और आशा सहयोगिनी को हर दिन मिलने वाली क्रमश: 33 रुपये और 15 रुपये की राशि बंद की जाती है। इससे पूरे प्रदेश के 84 हजार कार्यकर्ता और सहयोगिनी में नाराजगी है। उन्होंने कहा कि अक्टूबर और नवंबर में भी हमेशा की तरह सर्वे का कार्य किया गया है, लेकिन सितंबर से प्रोत्साहन राशि बंद करने का आदेश अब आया है। ऐसे में अक्टूबर और नवंबर की राशि उन्हें कैसे मिलेेगी। सितंबर में ही आदेश की जानकारी होती तो सर्वे बंद कर दिया जाता है। उन्होंने बताया कि पिछले महीनों की बकाया राशि बाद में मिलती है, इसलिए यह पता भी नहीं चला कि राशि का भुगतान रोक दिया गया है। बता दें इसके पहले भी महासंघ ने आशा कार्यकर्ता और सहयोगिनी के लिए क्रमश: 10 हजार और 15 हजार मासिक वेतन दिए जाने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया है।

Posted By: Lalit Katariya