HamburgerMenuButton

Bhopal Coronavirus Update: प्रशासन के रिकार्ड में पिछले एक माह में ग्रामीण क्षेत्र में मिले महज 450 संक्रमित मरीज

Updated: | Wed, 12 May 2021 01:15 PM (IST)

भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि राजधानी के बाद अब ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण बढना शुरू हो गया है। लिहाजा शहरी क्षेत्र के साथ- साथ ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा फोकस किया जाएगा। सवाल यह उठ रहा है कि जब ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण की वास्तविक स्थिति का पता अधिकारियों को पता ही नहीं है तो संक्रमण से कैसे निपटा जाएगा। कहने को तो ग्रामीण क्षेत्रों में किल कोरोना 3 अभियान चलाया जा रहा है लेकिन अधिकारी इसकी जानकारी उपलब्ध कराने में आनाकानी कर रहे है। कुछ लोगों का तो यहां तक कहना है कि कोई टीम उनके दरवाजे तक पहुंची ही नहीं। इसके बावजूद सर्वे की रिपोर्ट तैयार की जा रही है। इधर, शहरी क्षेत्र से लगे होने के कारण रातीबढ और नीलबड में प्रतिदिन संक्रमित मरीजों संख्या बढते जा रही है।वास्तविकता यह है कि पिछले पांच दिनों में इस किल कोरोना - 3 अभियान के तहत बताया जा रहा है कि फंदा में एक भी व्यक्ति संक्रमित नहीं पाया गया। इतना ही नहीं फंदा जनपद पंचायत सीईओ उपेंद्र सेंगर इस जानकारी को छिपाने की कोशिश कर रहे है। हैरत की बात तो यह है कि सुबह से शाम तक उन्होंने डाटा उपलब्ध काराना ही उचित नहीं समझा। हालांकि बैरसिया में किल कोरोना अभियान की सतर्कता दिखाई दे रही है। यहां सात मई से अब तक 110 गांव में 21 हजार 961 घरों के 90 हजार 476 लोगों की स्क्रीनिंग इस अभियान के तहत की गई है। इसमें से महज 589 मरीजों को पिछले 10 दिनों के भीतर बुखार आया है। वहीं 54 लोगों को सिर दर्द हुआ है। 209 लोगों के गले में खरास है और 866 लोगों को कोरोना की दवाईयां बांटी गई है। खास बात यह है कि पिछले पांच दिनों में बैरिसया में किल कोरोना अभियान के तहत 44 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।गांव में ही कराया जाएगा इलाज मुहैयावहीं ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड केयर सेंटर और ऑक्सीजन की व्यवस्था भी की जा रही है, ताकि मरीज को उनके गांव में ही इलाज मुहैया कराया जा सके। अब तक ग्रामीण क्षेत्रों में 1500 बिस्तरों के क्वारंटाइन सेंटर की व्यवस्था कर ली गई है। इसमें से 30 बिस्तरों के लिए आक्सीजन कंसट्रेटर की व्यवस्था की गई है। इधर, ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों का कहना है कि संक्रमण का जो आंकडा प्रशासन द्वारा बताया जा रहा है वह सही नहीं है। इस आंकडे से कहीं गुना ज्यादा लोग संक्रमित होकर स्वस्थ हो गए है। अब ग्रामीण क्षेत्रों में किल कोरोना अभियान चलाया जा रहा है।31 मई तक लॉकडाउन बढाने की तैयारी इधर, शहर में कोरोना संक्रमण के बढते हुए मामलों को देखते हुए 17 मई से 31 मई तक कोरोना कर्फ्यु बढाने की तैयारी चल रही है। इसके पीछे कारण यह है कि कोरोना की तीसरी लहर के तहत शहर में संक्रमित मरीजों की संख्या में बढोत्तरी हो सकती है। इसकी तैयारियां भी अभी से शुरू हो गई है।यहां है सबसे ज्यादा मरीज बैरसिया धमर्रा- 21 गुनगा - 27 नजीराबाद - 37 कुम्हैरा- 12 दिल्लौद 17 बरींछीरखेडा-- 13 फंदा आदमपुर छावनी- 10 बिलखिरिया कलां- 12 खजूरी सडक - 42 नरोन्हा सांकल- 11

Posted By: Lalit Katariya
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.