Bhopal Health News: बैरागढ़ शिविर में प्राकृतिक चिकित्‍सा विशेषज्ञ ने बताया, अपक्‍वाहार और उपवास के जरिए कैसे पाएं स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

Updated: | Sat, 23 Oct 2021 11:03 AM (IST)

भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। राजधानी के उपनगर बैरागढ़ में आरोग्य केन्द्र द्वारा आयोजित प्राकृतिक चिकित्सा शिविर के बीच अहमदाबाद की प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ धरती बेन ठक्कर का व्याख्यान हुआ। उन्होंने कहा कि पिज्जा, बर्गर, चाकलेट की जगह पर गुड़, पिंडखजूर, मूंगफली, तिल और अंजीर खाएंगे तो कभी बीमार नहीं होंगे।

विशेष सत्र में उन्होंने अपक्वाहार द्वारा स्वास्थ्य लाभ एवं उपवास के विषय में बताया। उन्होंने कहा कि उपवास से हम अपने जीवन की रक्षा कर सकते है। रोगों से निजात पा सकते हैं। उपवास से जोड़ो के दर्द, गठान, मोटापा, शुगर एवं अन्य प्रकार की बीमारियों का इलाज कर सकते हैं। नेचुरोपैथी ही एक ऐसा मार्ग है जो व्यक्ति को स्वस्थ बना सकता है। नैचुरोपैथी मानसिक, शारिरिक, और आध्यात्मिक तीनों स्तरों पर काम करता है। जब वजन ज्यादा होता है तो व्यक्ति को अनेक प्रकार की बीमारियों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि वजन कम करने के लिए हमे प्राकृतिक अर्थात सात्विक आहार का सेवन करना चाहिए जैसे रसाहार, फलाहार, सलाद आदि।

पिज्जा, बर्गर सेहत के लिए ठीक नहीं

धरती बेन ने कहा कि पिज्जा, बर्गर, मैगी, चाकलेट जैसी चीजें हमारी सेहत के लिए ठीक नहीं हैं। इसकी जगह पर गुड़, पिंडखजूर, मूंगफली, तिल, अंजीर आदि से बने हुए पदार्थो का सेवन कर सकते हैं। इससे आपका स्वास्थ्य सही रहेगा। उन्‍होंने बताया कि ज्यादातर बीमारियों की जड़ कब्ज है। इससे केवल उपवास एवं एनिमा ही निजात दिला सकता है। सप्ताह में दो बार एनिमा अवश्य लेना चाहिए। कब्ज से निजात पाने के लिए आंवले का जूस, अनार का जूस, छिलके सहित फल एवं करेले का जूस आदि का सेवन करना चाहिए। गठान की समस्या हो तो बिजौरा के फल का सेवन कर सकते है एवं जोड़ो के दर्द से निजात पाने के लिए हमें धूप स्नान लेना चाहिए। हफ्ते में एक बार हमें उपवास करना चाहिए। जिससे हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है। प्रारंभ में आरोग्य केंद्र के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. गुलाब राय टेवानी ने स्वागत संबोधन दिया।

Posted By: Ravindra Soni