Bhopal Health News: गोवंश में लंपी स्किन डिजीज (एलएसडी) का प्रकोप, 20 दिन में मिले दो हजार मामले

Updated: | Mon, 27 Sep 2021 09:14 AM (IST)

Bhopal Health News: भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। गाय, बैल में भोपाल में लंपी स्किन डिजीज के 20 दिन में दो हजार मामले आए हैं। भोपाल में पहली बार इस बीमारी ने दस्तक दी है। पिछले साल छत्तीसगढ़ से लगे जिलों मंडला, डिंडोरी, छिंदवाड़ा आदि जिलों में गौवंश में यह बीमारी मिली थी। वायरस से होने वाली इस बीमारी का संक्रमण जानवरों से इंसानों में नहीं होता। इसमें गोवंश के पशुओं की स्किन में गठानें हो जाती हैं। मौत का खतरा नहीं रहता। सात दिन में यह बीमारी अपने आप ठीक हो जाती है, लेकिन कुछ जानवरों में गठानें फूटने पर घाव ठीक होने में बहुत समय लग जाता है।

पशुपालन विभाग के उप संचालक डॉ. अजय रामटेके ने बताया कि बीमारी को लेकर पशुपालन संचालनालय ने अलर्ट जारी कर दिया है। सभी पशु चिकित्साल के चिकित्सकों को इस बीमारी को लेकर सतर्क रहने और फौरन जानकारी देने के लिए कहा गया है। उन्होंने बताया कि अभी तक किसी भी मवेशी की इस बीमारी से मौत नहीं हुई है।

छत्तीसगढ़ में इस बीमारी के मामले पिछले साल मिल रहे थे। इसके बाद वहां से सटे मध्यप्रदेश के जिलों में भी इस बीमारी के मरीज मिलने लगे थे। अब वहां मरीज नहीं मिल रहे हैं, लेकिन भोपाल के ग्रामीण क्षेत्रों में मामले सामने आ रहे हैं। यह बीमारी गौवंश के पशुओं के साथ रहने से होती है। छींकने, खांसने यह दूसरों तक पहुंचती है। इसमें पशुओं के शरीर में चमड़ी के नीचे बहुत सारी गठाने दिखाई देती हैं। इसके अलावा पैर के निचले हिस्से में सूजन रहती है। हल्का बुखार भी रहता है। डॉ. अजय रामटेके ने बताया कि आम तौर पर बिना किसी इलाज के ही बीमारी ठीक हो जाती है।

Posted By: Ravindra Soni