HamburgerMenuButton

Bhopal News: कटारा हिल्स क्षेत्र में बर्रई सड़क का काम चालू, हजारों रहवासियों को होगी सहूलियत

Updated: | Tue, 19 Jan 2021 03:16 PM (IST)

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। अधूरी बर्रई सड़क का निर्माण कार्य एक बार फिर शुरू हो गया है। अब आसपास के हजारों रहवासियों को उम्मीद है कि बारिश पूर्व काम पूरा हो जाएगा और उन्हें परेशान नहीं होना पड़ेगा। सड़क निर्माण कार्य चार साल पूर्व शुरू हुआ था, लेकिन तीन किलोमीटर क्षेत्र में अब तक सड़क नही बन सकी है। रहवासी ठंड व गर्मी के दिनों में धूल और बारिष में कीचड़ से परेशान हो रहे हैं। अब संभावना है कि बारिश पूर्व काम पूरा हो जाएगा और सभी परेशानियों से छूटकारा मिल जाएगा।

यह सड़क कटारा हिल्स के अमलतास चौराहे से लेकर स्वामी विवेकानंद, गौरीशंकर परिसर होते हुए कलियासोत से रायसेन बायपास तक बननी है। पूरे क्षेत्र में काम चल रहा है। रायसेन बायपास जोड़ से लेकर अमलतास चैराहे तक पूर्व में बिजली कंपनी ने निर्माण में आड़े आ रहे बिजली के पोल को शिफ्ट कर दिया था, समतलीकरण का काम पहले ही पूरा हो गया है। केवल सीमेंटीकरण होना है। अमलतास चैराहे से लेकर होशंगाबाद रोड की तरफ काम होना है।

बीच में आड़े आ रही झुग्गियां, अब तक नहीं की शिफ्ट

अमलतास चैराहे से लेकर आगे की तरफ झुग्गियां आड़े आ रही है, जिन्हें अब तक शिफ्ट नहीं किया है। ये 20 से 25 झुग्गियां हैं जिनके कारण काम आगे नहीं बढ़ रहा है। झुग्गीवासी भी हटने के लिए तैयार नहीं है। यदि प्रशासन ने इन झुग्गियों को नहीं हटाया गया तो अमलतास चैराहे से होशंगाबाद रोड की तरफ का काम फिर प्रभावित हो सकता है।

रहवासियों की ये मांगे

क्षेत्र के रहवासियों की मांग है कि सबसे पहले अमलतास चैराहे से बर्रई के गौरीशंकर परिसर तक सड़क निर्माण कार्य पहले पूरा करवा दें। इसी बीच सबसे ज्यादा रहवासियों का आना-जाना होता है। आधा दर्जन बड़ी काॅलोनियां इसी बीच पड़ती है जो कच्ची सड़क पर वाहनों के चलने से उड़ने वाली धूल से परेशान हैं। कई बार तो किनारे से गुजरने वाली नहर से पानी ओवरफ्लो होकर सड़क पर आ जाता है तब कीचड़ से अधिक परेशानी होती है।

Posted By: Lalit Katariya
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.