HamburgerMenuButton

Bhopal News : निगम कार्यालय पहुंचे पूर्व सीएम व सांसद दिग्विजय सिंह, स्ट्रीट वेंडर योजना में गड़बड़ी का लगाया आरोप

Updated: | Tue, 22 Jun 2021 09:47 PM (IST)

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। नगर निगम कार्यालय में मंगलवार को प्रदेश के पूर्व सीएम व राज्य सभा सांसद दिग्विजय सिंह पहुंचे। इस दौरान उन्होंने स्ट्रीट वेंडर योजना से जुड़ी समस्याओं से नगर निगम आयुक्त को अवगत करवाया। करीब 12 बजे अचानक पहुंचकर उन्होंने नगर निगम के अधिकारियों के सामने इस पोर्टल को खुलवाया। पोर्टल नहीं खुला। इस पर उन्होंने आरोप लगाया कि स्ट्रीट वेंडर योजना में बड़ी गड़बड़ चल रही है। नए रजिस्ट्रेशन नहीं हो पा रहे है। वहीं दूसरी ओर गुमठी-ठेलों का बड़े स्तर पर धंधा चल रहा है। प्रभावी लोगों ने रजिस्ट्रेशन करा रखे है, जो घर बैठकर वसूली कर रहे है। वहीं जिनका हक है वह किराया दें रहे है। उन्होंने आरोप लगाया कि गरीब दुकानदार 100 रुपये कमाता है तो 60 रुपये प्रभावी लोग ही वसूल लेते है। इसे बिल्कुल नहीं चलने देंगे। डी-मार्ट के पास हाकर्स कार्नर के लिए 150 आवेदन आ चुके है और वहां जगह कम पड़ गई है। इसके चलते वहां लॉटरी सिस्टम लागू किया जाए, क्योकि यहां कई लोग बिना लायसेंस के बैठे हुए है। इस दौरान उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि राज्य सरकार ने नगरीय निकायों में खर्च करने के लिए जो राशि तय की है उसमें कांग्रेस के विधायकों की राशि काटकर भाजपा के विधायकों को दे दी गई है। इस पर आपत्ति भी जताई है। इस दौरान उन्होंने नगर निगम कमिश्नर से काफी देर चर्चा की। समस्याओं को जल्द दूर करने की मांग की और तीन महीने बाद दोबारा कार्यालय आकर बात करने की बात भी कही। उन्होंने योजना में वसूले जा रहे अधिक ब्याज को लेकर भी आपत्ति जताई है।

नगर निगम ने रॉयल मार्केट में तोड़े 10 गोदाम, पांच मकान भी टूटेंगे

इधर, नगर निगम ने रॉयल मार्केट क्षेत्र में मंगलवार को जिला प्रशासन एवं नगर निगम के अमले ने 10 गोदाम तोड़ने की कार्रवाई की, वहीं पांच मकान भी तोड़े जाएंगे। अधिकारियों का कहना है कि ये गोदाम और मकान अवैध तरीके से यहां बने हुए है। जिसे हटाने के लिए तहसीलदार ने एक साल पहले ही आदेश जारी कर दिए थे। बता दें कि ये दुकानें रॉयल मार्केट में नर्मदा स्वीट्स के पास बने हुए थे। इस दौरान कार्रवाई का विरोध जताया। उनका कहना था कि बारिश के समय यह कार्रवाई नहीं की जानी चाहिए थी।

Posted By: Lalit Katariya
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.