HamburgerMenuButton

Bhopal News: बरखेड़ी में रेल लाइनों तक पहुंच रहा लीकेज वाला पानी, ट्रैक को खतरा

Updated: | Wed, 12 May 2021 04:17 PM (IST)

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। शहर के बरखेड़ी फाटक क्षेत्र में रेलवे लाइन तक पानी पहुंच रहा है। यह पानी नगर निगम की लाइन में लीकेज होने और गंदे पानी की निकासी के लिए बनाई गई नालियों के फुटने के कारण पहुंच रहा है। हालांकि रेलवे ने इस पानी की निकासी के लिए ट्रैक के किनारे पक्की नाली बनाई है लेकिन अधिक पानी लीकेज होने के कारण यह ओवरफ्लो होकर ट्रैक के आसपास फैलता है। बारिश में यह समस्या अधिक होती है। रेलवे के जानकारों का कहना है कि किसी भी रेलवे ट्रैक के किनारे पानी का बहाव ठीक नहीं है। बारिश के पूर्व लीकेज ठीक करना चाहिए। यदि पानी ट्रैक के आसपास जमा हुआ तो जमीन दलदली होगी और ट्रैक भी धंस सकता है। ऐसे में रेल हादसों की संभावना बढ़ जाती है।पहले से लीकेज, लेकिन अब खतरा अधिकबरखेड़ी फाटक क्षेत्र में रेल लाइन के किनारे पूर्व से लीकेज वाला पानी बहता रहा है लेकिन पूर्व में पानी के लीकेज वाले पाइंट से रेलवे की दोनों रेल लाइनों की दूरी काफी थी। अब तीसरी रेल लाइन चालू हो गई है। लीकेज वाला पानी तीसरी रेल लाइन के ट्रैक को नुकसान पहुंचा रहा है।निगम के संज्ञान में, लेकिन लीकेज ठीक नहींरेलवे के अधिकारियों का कहना है कि लीकेज की समस्या पुरानी है। इसको लेकर निगम को पूर्व में अवगत करा चुके हैं। अब तक लीकेज बंद नहीं किया है। रेलवे की तरफ से ट्रैक के किनारे नालियां बनाकर पानी को निकाल रहे हैं। समस्या है, बारिश में और बढ़ जाती है।ट्रैक के किनारे पानी नहाते हैंइस पानी से आसपास के लोग नहाते हैं और कपड़े धोते हैं। इस तरह लोगों का रेलवे ट्रैक पर आना—जाना लगा रहता है। ऐसे में हादसे हो सकते हैं।बाउंड्रीवाल बनाई, पर नहीं माने लोग रेलवे ने इस क्षेत्र में लोगों को ट्रैक पर आने से रोकने के लिए बाउंड्रीवाल बनाई है। तब भी लोग दूसरे हिस्सों से ट्रैक तक पहुंच रहे हैं।समझाइश का असर नहींभोपाल आरपीएफ थाना प्रभारी निहाल सिंह का कहना है कि क्षेत्र में रेलवे ट्रैक पार करने वाले लोगों को आरपीएफ द्वारा लगातार समझाइश दी जा रही है। जुर्माने की कार्रवाई भी की है। तब भी लोग समझने के लिए तैयार नहीं है।

Posted By: Lalit Katariya
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.