Bhopal Suicide News: दूसरे शहर से आया था कैंसर का इलाज कराने, दर्द सहन नहीं हुआ तो खुदकुशी कर ली

Updated: | Fri, 17 Sep 2021 02:48 PM (IST)

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। शहर के दो अलग-अलग थाना इलाकों में बीमारी के कारण हो रहे दर्द से परेशान होकर दो युवकों ने खुदकुशी कर ली। इनमें से एक कैंसर का इलाज कराने स्वजनों के साथ टीकमगढ़ के मोहनगढ़ से भोपाल आया था। उसका जवाहरलाल नेहरू कैंसर अस्पताल में उपचार भी चल रहा था। उधर अशोका गार्डन में रहने वाले युवक ने शरीर में उठने वाले असहनीय दर्द से तंग होकर तेजाब पी लिया था। पुलिस मामलों की जांच कर रही है।

शाहपुरा थाना प्रभारी एमके मिश्रा ने बताया कि गुरुवार सुबह करीब साढ़े नौ बजे बावड़ियाकला रेलवे क्रॉसिंग के पास युवक का शव पड़ा होने की सूचना मिलने पर रेलवे पुलिस मौके पर पहुंची थी। घटनास्थल चेक करने के बाद सूचना शाहपुरा पुलिस को मिली। शव की तलाशी के दौरान मिले दस्तावेज से मृतक की पहचान मोहनगढ़, टीकमगढ़ निवासी कोमल पुत्र दयाराम सिंह (32) के रूप में हुई। घटना की सूचना मिलने पर उसके स्वजन भी थाने पहुंच गए थे। उन्होंने पुलिस को बताया कि कोमल निजी काम करता था। उसको मुंह में कैंसर हो गया था। 14 सितंबर को वे लोग उपचार के लिए कोमल को लेकर भोपाल आए थे। उसे जवाहरलाल नेहरू कैंसर अस्पताल में भर्ती कराया था। जांच के बाद चिकित्सकों ने बताया कि उसके कैंसर आखिरी स्टेज तक बढ़ चुका है। साथ ही उसकी कीमो थैरेपी शुरू कर दी थी।

दूध लाने के बहाने से हुआ गायब

बुधवार शाम को कोमल ने अपने रिश्तेदार से कहा कि वह दूध लेने जा रहा है। इसके बाद अस्पताल से गायब हो गया था। उन लोगों ने रात भर कोमल की तलाश की, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल सका। गुरुवार सुबह कोमल की मौत की सूचना मिल गई। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

सुसाइड नोट में लिखा दर्द से परेशान हूं

अशोका गार्डन थाना पुलिस के मुताबिक कैलाश नगर निवासी शैलेष पुत्र मानिकलाल दमाड़े (36) औद्योगिक क्षेत्र स्थित एक निजी फर्म में स्टोर में काम करता था। उसके साथ उसका एक रिश्तेदार जीवन भी काम करता है। गुरुवार सुबह करीब सवा नौ बजे शैलेष ने एसिड पी लिया था। हालत बिगड़ने पर जीवन उसे लेकर एक अस्पताल पहुंचा। वहां कुछ देर चले उपचार के बाद शैलेष की मौत हो गई। पुलिस को उसके पास से एक सुसाइड नोट मिला है। उसमें शरीर के दर्द से परेशान होने का जिक्र किया गया है। इस मामले में उसके परिजनों का कोई कसूर नहीं है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Posted By: Ravindra Soni