Black Fungus in Bhopal: अस्‍पतालों में भर्ती फंगस के मरीजों में एक तिहाई दोबारा संक्रमित होने वाले

Updated: | Mon, 26 Jul 2021 08:10 AM (IST)

Black Fungus in Bhopal: भोपाल( नवदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना का प्रकोप भले ही कम हो गया हो, लेकिन म्यूकरमाइकोसिस (फंगस) के मरीजों के आने का सिलसिला लगातार जारी है। फंगस के मरीजों में एक तिहाई ऐसे हैं जो दोबारा संक्रमित होने की वजह से अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं। इनमें ज्यादातर मरीज तो ऐसे हैं जो एक बार ठीक होने के एक से दो महीने के बाद दूसरी बार भर्ती हुए हैं। दोबारा संक्रमण बढ़ने की वजह यही है कि उन्‍हें जरूरत के लिहाज से इंजेक्शन नहीं मिल पाया, जिससे संक्रमण पूरी तरह से ठीक नहीं हुआ।

हमीदिया अस्पताल की नाक, कान एवं गला रोग विभाग की एचओडी डॉ. स्मिता सोनी ने कहा कि फंगस के मरीजों में तालू और जबड़े में ज्यादा संक्रमण देखने को मिल रहा है। महीने भर पहले भी दोबारा संक्रमित होकर लोग अस्पताल पहुंच रहे थे, लेकिन आंकड़ा करीब 10 फीसद ही था। अब 30 से 40 फीसद मरीज दोबारा संक्रमित होकर पहुंच रहे हैं। डॉक्टरों के मुताबिक मरीजों के दोबारा संक्रमित होने की बड़ी वजह यह है कि उन्हें फंगस के इलाज के लिए जरूरी एंफोटेरेसिन बी इंजेक्शन खुराक के अनुसार नहीं मिल पाया। एक मरीज को हर दिन 4 से 6 इंजेक्शन की जरूरत उसके वजन के अनुसार पड़ती है। ऐसे भी मरीज रहे हैं, जिन्हें 3 या 4 दिन में एक इंजेक्शन ही मिला है। दूसरी दिक्कत यह रही कि एक इंजेक्शन करीब 7000 रुपए में आता है। ऐसे में कुछ मरीज आर्थिक तंगी की वजह से पूरे इंजेक्शन नहीं खरीद पाए। पूरे डोज लेने पर करीब ढाई लाख रुपए का खर्च है।

हमीदिया अस्पताल के दंत चिकित्सा विभाग के एचओडी डॉ अनुज भार्गव ने बताया कि अभी तक में 40 मरीजों की जबड़े और तालू की सर्जरी की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि पहले जो मरीज आ रहे थे, उनकी आंख और साइनस में संक्रमण मिल रहा था लेकिन दोबारा आने वाले मरीजों के तालू में संक्रमण मिल रहा है।

Posted By: Ravindra Soni