Mission 2023: लगातार हारने वाली 70 सीटों पर छह माह पहले टिकट घोषित करेगी कांग्रेस

Mission 2023: मिशन 2023 के लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ ने बनाई कार्ययोजना।

Updated: | Sun, 22 May 2022 11:34 PM (IST)

नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव के परिणाम भी बनेंगे प्रत्याशी चयन का आधार

Mission 2023: वैभव श्रीधर,भोपाल। सत्ता में वापसी के लिए जूझ रही कांग्रेस मिशन 2023 की तैयारियों में जुट गई है। इसके लिए एक साथ कई मोर्चों पर काम किया जाएगा। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ ने वरिष्ठ नेताओं के साथ सलाह-मशविरा करके उन 70 सीटों पर छह माह पहले टिकट घोषित करने की कार्ययोजना बनाई है, जहां पिछले तीन चुनाव से सफलता नहीं मिल रही है।

पार्टी का मानना है कि भाजपा का गढ़ बन चुकी इन सीटों में सेंध लगाने के लिए प्रत्याशी को पर्याप्त समय दिया जाना चाहिए। इन सीटों के लिए उन प्रदेश पदाधिकारियों को पर्यवेक्षक बनाकर जिम्मेदारी भी सौंपी जाएगी जो पूरा समय दे सकें। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ ने विधानसभा चुनाव को लेकर प्रत्येक सीट का आकलन कराया है। इसमें 70 सीटें ऐसी छांटी गई हैं, जहां कभी जातिगत समीकरण के आधार पर टिकट दिए गए तो कभी नए चेहरे को मौका दिया गया पर सफलता नहीं मिली।

इसमें सागर की रेहली विधानसभा सीट ऐसी है, जहां भाजपा के गोपाल भार्गव लगातार आठ बार से चुनाव जीत रहे हैं। पार्टी ने यहां ब्रजबिहारी पटेरिया, जीवन पटेल और कमलेश साहू पर दांव लगाया पर कारगर साबित नहीं हुआ। इसी तरह दतिया से डा.नरोत्तम मिश्रा लगातार जीत दर्ज कर रहे हैं। पार्टी ने हर बार राजेंद्र भारती को मुकाबले में उतारा पर वे टिक नहीं पाए।

इसी तरह बालाघाट में गौरीशंकर बिसेन की कोई काट कांग्रेस को नहीं मिल रही है। रीवा में राजेंद्र शुक्ला, सीधी में केदारनाथ शुक्ला, नरयावली में डा.प्रदीप लारिया, मानपुर में मीना सिंह, भोजपुर में सुरेंद्र पटवा, सागर में शैलेंद्र जैन, नरेला में विश्वास सारंग, हुजूर में रामेश्वर शर्मा, हरसूद में विजय शाह, सोहागुपर में विजयपाल सिंह, धार में नीना विक्रम वर्मा, इंदौर दो में रमेश मेंदोला, इंदौर चार में मालिनी गौड़, इंदौर पांच में महेंद्र हार्डिया और मंदसौर सीट पर यशपाल सिंह सिसोदिया को कांग्रेस टक्कर नहीं दे पा रही हैं।

इसके मद्देनजर चुनाव से छह माह पहले प्रत्याशी घोषित करने का निर्णय लिया है। पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर ने बताया कि आगामी चुनाव में जीत सुनिश्चित करने के लिए सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए तैयारी की जा रही है। इसमें पहले से टिकट घोषित करना भी शामिल है।

इंदौर की तीन सीटों सहित यहां लगातार हार रही कांग्रेस इंदौर दो, इंदौर चार, इंदौर पांच, महू, दतिया, शिवपुरी, गुना, ग्वालियर ग्रामीण, रेहली, नरयावली, सागर, बीना, चांदला, बिजावर, पथरिया, हटा, रामपुरबघेलान, सिरमौर, सेमरिया, त्यौंथर, रीवा, सीधी, सिंगरौली, देवसर, धौहनी, जयसिंहनगर, जैतपुर, बांधवगढ़, मानपुर, मुड़वारा, जबलपुर केंट, पनागर, सिहोरा, परसवाड़ा, बालाघाट, सिवनी, आमला, टिमरनी, सिवनी मालवा, होशंगाबाद, सोहागपुर, पिपरिया,भोजपुर,कुरवाई, शमशाबाद, बैरसिया, नरेला, हुजूर, गोविंदपुरा, बुधनी, आष्टा, सीहोर, सारंगपुर, सुसनेर, शुजालपुर, देवास, खातेगांव, बागली, हरसूद, खंडवा, पंधाना, बुरहानपुर, धार, उज्जैन उत्तर, उज्जैन दक्षिण, रतलाम सिटी,मंदसौर, मल्हारगढ़,नीमच, जावद ।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.