HamburgerMenuButton

Corona Fighters: अस्पताल में भी रामचरितमानस का पाठ किया और सकारात्मक रहकर हराया

Updated: | Sun, 16 May 2021 05:30 PM (IST)

Bhopal Corona fighters :मेरी दिनचर्या में योग व प्राणायाम के साथ-साथ रामचरितमानस का पाठ करना शामिल है। जब मुझे बुखार आया तो लगा कि मामूली वायरल बुखार है, लेकिन जब ज्यादा परेशानी होने लगी तो घरवालों ने कोरोना टेस्ट कराया। जब रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो घर के लोग घबरा गए। खास तौर पर बेटे को चिंता सताने लगी कि इतनी अधिक उम्र में काेरोना होना सही नहीं है, लेकिन मुझे बिल्कुल घबराहट नहीं हुई। अधिक उम्र होने के कारण और ऑक्सीजन का लेवल कम होने लगा तो परिवार वालों ने अस्पताल में भर्ती करा दिया। वहां पर 12 दिन रहा, लेकिन मन में कभी नकारात्मक विचार नहीं आने दिया। अस्पताल में भी दो समय प्रार्थना, योग व प्राणायाम करता रहा। साथ ही रामचरितमानस का पाठ हर रोज करता था। डॉक्टर्स भी मेरी सकारात्मकता देखकर खुश थे। उनका कहना था कि अगर हर मरीज ऐसे ही सकारात्मक रहे तो इस बीमारी से जल्द उबर सकते हैं। वहां सुबह-शाम भजन भी सुनता था। भगवान से यही प्रार्थना करता था कि सभी को इस महामारी से जल्द निकाल दें। अगर कोई भी इस बीमारी के नाम से घबराएं नहीं, बल्कि सकारात्मक रहकर मन से मजबूत होकर इसे आसानी से हरा सकते हैं।

बालकृष्ण शर्मा, 83 वर्ष, अवधपुरी

Posted By: Lalit Katariya
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.