Corona Third Wave: MP में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर शिवराज सरकार चौकन्नी, गाइड लाइन के जरिये 10 अगस्त तक सख्ती बढ़ाई

Updated: | Sun, 01 Aug 2021 07:35 AM (IST)

Corona Third Wave: भोपाल (नवदुनिया स्टेट ब्यूरो)। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए राज्य सरकार चौकन्नी हो गई है और कोरोना कर्फ्यू के समय जारी गाइड लाइन के जरिये प्रदेश में 10 अगस्त तक सख्ती बढ़ा दी है। गृह विभाग ने 10 अगस्त तक गाइड लाइन का कड़ाई से पालन करने के निर्देश शनिवार को जारी कर दिए हैं। इसके तहत रात का कर्फ्यू (11 से छह) भी जारी रहेगा। हालांकि सरकार ने दो दिन पहले ही कलेक्टरों से रात का कर्फ्यू समाप्त करने को लेकर राय मांगी है।

केरल में लगातार चौथे दिन 20 हजार से ज्यादा मामले सामने आने हैं और पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र में भी कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। जिन्हें देखते हुए सरकार ने 31 जुलाई तक लागू की गई गाइड लाइन की सख्ती आगे बढ़ाई है। वहीं सरकार ने सभी कलेक्टरों को सतर्क रहने के निर्देश भी दिए हैं। प्रदेश के स्कूली बच्चों, अभिभावकों और शिक्षकों से वर्चुअल बात करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना को लेकर सतर्क रहने, लापरवाही न करने और कोरोना नियमों का कड़ाई से पालन करने की अपील की है।

उन्होंने शिक्षकों से कहा कि वे जल्द से जल्द टीकाकरण कराएं। उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश में कोरोना पूरी तरह से नियंत्रण में है। शुक्रवार को 10 नए मामले सामने आए थे। फिर भी तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए सावधानी बरतने को कहा जा रहा है।

शहरी क्षेत्रों में चैकिंग बढ़ाई

पड़ोसी राज्य में कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए प्रदेश के शहरी और कस्बाई क्षेत्रों में एक बार फिर सख्ती शुरू हो गई है। पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया है और मास्क एवं शारीरिक दूरी के नियमों के तहत दिए गए निर्देशों के मुताबिक चैकिंग की जा रही है। राजधानी में भी प्रमुख चौराहों और रास्तों पर पुलिस मास्क की जांच कर रही है। इस दौरान यह भी देखा जा रही है कि चार पहिया वाहन में कितने लोग बैठे हैं। निर्देशों के तहत वाहन में भी शारीरिक दूरी के नियम का पालन करना है।

जहां शंका, वहां ज्यादा सतर्कता

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि प्रदेश में कोरोना की स्थिति में लगातार सुधार हुआ है। अब उन स्थानों पर ध्यान दिया जा रहा है, जहां कोरोना बढ़ सकता है। हम पूरी तरह से सतर्क हैं। जांच भी उतनी ही की जा रही हैं, जितनी दूसरी लहर के दौरान की जा रही थीं। टीकाकरण में भी नए रिकॉर्ड बन रहे हैं। हमारे यहां टीके का वेस्टेज माइनस में है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay