HamburgerMenuButton

Bhopal News: राजस्‍व रिकॉर्ड को लेकर बैरसिया के 240 गांवों का ड्रोन से हुआ सर्वे

Updated: | Thu, 24 Jun 2021 11:20 AM (IST)

भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। राजस्व रिकार्ड में वैसे तो खेती की जमीन का भूमिस्वामी होता है, लेकिन अनेक गांवों में बने मकानों में जो लोग सालों से रह रहे हैं अब तक उन्हें उस मकान का मालिकाना हक नहीं मिल पाया है। इस समस्या को देखते हुए प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना देश में लागू की गई है। इसके चलते राजधानी के बैरसिया तहसील के 252 गांव का ड्रोन से सर्वे कर आबादी वाले गांव में लोगों को उनके मकान का मालिकाना हक दिया जाएगा। अब तक बैरसिया के 240 गांवों का सर्वे हो चुका है। 12 गांव का सर्वे होने के बाद हुजूर क्षेत्र के 156 गांव का ड्रोन से आबादी सर्वे किया जाएगा। इसके लिए दिल्ली से आई सर्वे ऑफ इंडिया की तीन सदस्यीय टीम स्थानीय राजस्व महकमे के साथ सर्वे कर रही है। इन गांव के लोगों को सालों बाद अब मालिकाना हक मिल जाएगा। इसके चलते वे बैंकों से लोन लेने व अन्य वित्तीय लाभों के लिए अपनी संपत्ति को वित्तीय संपत्ति के रूप में उपयोग करने में सक्षम बन जाएंगे। वहीं मानचित्र भी बनाए जाएंगे। सर्वे करने के बाद आबादी सर्वे का ऑनलाइन डाटा अपडेट किया जाएगा। योजना का मकसद संपत्ति संबंधी विवादों व कानूनी मामलों को कम करना है।

बता दें कि प्रधानमंत्री कार्यालय के अंतर्गत स्वामित्व योजना शुरू की गई है। जमीन मालिकों को स्वामित्व योजना के तहत संपत्ति कार्ड वितरित किए जाएंगे। मध्यप्रदेश के 44, हरियाणा के 221, उत्तर प्रदेश के 346, महाराष्ट्र के 100 और उत्तराखंड के 50 शहरों के गांवों का सर्वे इस योजना के तहत किया जा रहा है। ये ऐसे गांव हैं, जहां पहले सरकारी जमीन थी लेकिन अब आबादी विकसित हो गई है। आबादी विकसित होने के बाद इन सभी गांववासियों को मालिकाना हक प्रदान करने के लिए ड्रोन से सर्वे करवाया जा रहा है। इसके बाद घरों की नंबरिंग की जाएगी और राजस्व रिकार्ड में उस घर में रह रहे लोगों का नाम दर्ज किया जाएगा।

यह होगा फायदा

इससे जो लोग जिस जगह पर काबिज हैं, उस जमीन के मालिक हो जाएंगे। ड्रोन सर्वे के बाद आरआइ और पटवारी घर-घर जाकर इन घरों के मालिकों के नाम राजस्व रिकार्ड में अपडेट करेंगे। इसके बाद मालिकाना हक मिल जाएगा। इसके चलते संबंधित व्‍यक्‍ति रजिस्ट्री करवा सकेगा और राजस्व संबंधी अन्य दस्तावेज नामांतरण, नक्शा सहित अन्य दस्तावेज भी बनवा सकेगा। ऐसा होने के बाद वह बैंक से मकान बनाने के लिए इस जमीन की गारंटी पर लोन ले सकेगा और इस वित्तीय संपत्ति के रूप में उपयोग कर सकेगा। इससे जमीनों को लेकर चल रहे विवाद भी सुलझेंगे क्योंकि हर मकान का अलग से नया रिकार्ड बनाकर दुरुस्त किया जाएगा।

हुजूर के 156 गांव का सर्वे किया जाएगा। इसके लिए सोमवार से सर्वे शुरू किया जाएगा। तहसीलदार के नेतृत्व में एसएलआर सहित दिल्ली से आई टीम यह सर्वे करेगी।

- आकाश श्रीवास्तव, एसडीएम, हुजूर

बैरसिया के 252 गांवों का सर्वे होना है, इसमें से 240 गांव का सर्वे पूरा हो गया है। अब रिकार्ड में अपडेशन कार्य के लिए पटवारियों द्वारा घर-घर जाकर सर्वे किया जाएगा।

- राजीवनंदन श्रीवास्तव, एसडीएम बैरसिया

Posted By: Ravindra Soni
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.