HamburgerMenuButton

Eid 2021: कोरोना मुक्ति के लिए हुईं दुआएं, घरों में घुली सिवाइयों की मिठास

Updated: | Sat, 15 May 2021 10:31 AM (IST)

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। राजधानी में रमजान उल मुबारक के रोजों के बाद शुक्रवार को जुमे दिन ईद उल फित्र का पवित्र त्यौहार मनाया गया। कोरोना के कारण ईदगाह पर पांच लोगों ने ईद की नमाज अदा की। मजिस्दों में इमामों व पदाधिकारियों ने ही नमाज पढ़ी। शहर काजी सैय्यद मुश्ताक अली नदवी ने सभी लोगों को ईद की नमाज अदा करके ईद की बधाई दी। ईदगाह हिल्स, कोहेफिजा, करोंद, डीआईजी बंगला, गांधी नगर, संत हिरदाराम नगर, भेल,कोलार सहित शहर के अलग-अलग इलाकों में रहने वाले मुस्लिम समाज के लोगों ने अपने घरों से नमाज अदा की। अल्लाह सेकोरोना माहामारी की मुक्ति के लिए दुआ मांगी। आल इंडिया मुस्लिम त्यौहार कमेटीे के तत्वावधान में बेहद सादगी के माहौल में अकीदत के साथ ईद मनाई गई। मौला खैर, हमको कोरोना से निजात दिला दे खुशहाली अता फरमा दे, मस्जिदों में कोरोना महामारी से निजात दिलाने के लिए खुसूसी दुआएं की गईं। आल इंडिया मुस्लिम त्यौहार कमेटी के महासचिव काजी सैययद अनस अली चिश्ती ने बताया कि आल इंडिया मुस्लिम त्यौहार कमेटी के चैयरमेन कायदे मिल्लत, पीरजादा, अलहाज, हजरत डाॅ. औसाफ शाहमीर खुर्रम मियां चिश्ती साहब की हिदायत के मुताबिक राजधानी के अधिकांश बंदों ने अपने परिवारों के साथ घरों में ही ईद की नमाज अदा की गई। घरों में सिवाइयों की मिठास घुली। कोरोना के संकट में जरूरतमंदों की मदद करने का संकल्प लिया। -गले नहीं लगे, इंटरनेट मीडिया से दी ईद की बधाई कोरोना के बचाव के चलते मुस्लिम समाज के लोगों ने अपने रिश्तेदारों व परिचितों को गले लगकर बधाई नहीं दी। इंटरनेट मीडिया के जरिए ही बधाई दी। फोन करके भी एक-दूसरे को ईद मुबारक कहा। महिला, बड़े-बुजुर्ग और बच्चों के चेहरों पर ईद की खुशी के साथ कोरोना संक्रमितों की फिक्र दिखी। -जमीअत उलमा ने बांटी जरूरतमंदों को खीर जमीअत उलमा मप्र से के पदाधिकारियों व सदस्यों ने पांच लोगों की संख्या में ईद की नमाज अदा की। इसके बाद अलग-अलग इलाकों में जरूरतमंदों के बीच पहुंचकर ईद की खुशियां बांटी। सिवाइयों की खीर देकर ईद मुबारक कहा। जमीअत उलमा मप्रके प्रेस सचिव हाजी मोहम्मद इमरान ने बताया कि कोरोना काल में ईद के साथ-साथ जरूरतमंदों की मदद करना जरूरी है। कोरोना महामारी से एक-दूसरे की मदद करके ही निपटा जा सकता है।

Posted By: Lalit Katariya
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.