भोपाल सुसाइड केस में चौथी मौत, परिवार के मुखिया ने इलाज के दौरान तोड़ा दम

Updated: | Sun, 28 Nov 2021 11:42 AM (IST)

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। सूदखोरों से त्रस्त होकर गुरुवार की रात जहर पीने वाले जोशी परिवार के एक और सदस्‍य की शनिवार देर रात मौत हो गई। परिवार के मुखिया संजीव जोशी ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। वहीं अस्‍पताल में इलाजरत उनकी पत्‍नी की स्‍थिति भी गंभीर बनी हुई है। इससे पहले शुक्रवार को उनकी पूर्वी (16) और मां नंदिनी (67) की मौत हो चुकी थी। वहीं शनिवार सुबह बड़ी बेटी ग्रीष्मा (21) ने भी दम तोड़ दिया था। संजीव को जैसे ही अपनी मां और बेटियों की मौत की भनक लगी थी, तब से उन्होंने आंखें नहीं खोली थी। डॉक्टरों का कहना है कि संजीव की पत्नी की भी हालत काफी खराब है, अब दवाओं से ज्यादा दुआओं की जरूरत है।

उधर, इस मामले में शनिवार को पुलिस ने चार महिलाओं को खुदकुशी के लिए उकसाने, ऋणियों का संरक्षण अधिनियम मप्र के तहत गिरफ्तार कर लिया। मुख्यमंत्री की ओर से क्षेत्रीय विधायक कृष्णा गौर ने पीड़ित परिवार को दो लाख रुपये का चेक भी सौंपा। पिपलानी थाना प्रभारी अजय नायर ने बताया कि एक निजी अस्पताल में भर्ती संजीव जोशी और उसकी पत्नी अर्चना का इलाज चल रहा था। रविवार सुबह संजीव जोशी की भी मौत हो गई। पुलिस ने जोशी परिवार को खुदकुशी के लिए उकसाने के मामले में बाल विहार के पास आनंद नगर में रहने वाली बबली दुबे (36), रानी दुबे (19), पटेल नगर निवासी उर्मिला बेलदार (खाम्बरा) (50) और अशोका गार्डन में रहने वाली प्रमिला बेलदार (38) को गिरफ्तार कर लिया है। रानी बबली की बेटी है। उसकी शादी की बात चल रही थी। इस वजह से बबली, अर्चना जोशी से रुपये वापसी के लिए दबाव बना रही थी।

पहली बार हुआ चूहे और श्वान का पीएम

राजधानी में पहली बार एक खुदकुशी के मामले में श्वान और चूहों का पोस्टमार्टम किया गया है। उनकी रिपोर्ट आना बाकी है।

Posted By: Ravindra Soni