HamburgerMenuButton

MP Weather Update: अरब सागर से आ रही नमी से मध्य प्रदेश में लगा गर्मी पर ब्रेक, दो दिन में बढ़ेगा तापमान

Updated: | Mon, 19 Apr 2021 09:57 AM (IST)

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि) MP Weather Update। अरब सागर पर बने एक प्रति चक्रवात के कारण मध्य प्रदेश के वातावरण में हवा के साथ नमी आने का सिलसिला बना हुआ है। इस वजह से राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के कुछ हिस्‍सों में आंशिक बादल छाने लगे हैं। बादलों की मौजूदगी के कारण प्रदेश के अधिकांश जिलों में अधिकतम तापमान में अपेक्षाकृत वृद्धि नहीं हो पा रही है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक 20 अप्रैल को एक पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत में दाखिल होने की संभावना है। इस सिस्टम के उत्तर भारत से आगे बढ़ने पर तापमान में बढ़ोतरी होने की संभावना है। उधर रविवार को प्रदेश में सबसे अधिक 41 डिग्री सेल्सियस तापमान खजुराहो में दर्ज किया गया। खरगोन, खंडवा, रायसेन और होशंगाबाद में भी तापमान उच्‍च रहे। भोपाल का अधिकतम तापमान 38.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य रहा। इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर में भी अधिकतम तापमान में मामूली उतार-चढ़ाव देखा गया।

मौसम विशेषज्ञ अजय शुक्ला ने बताया कि वर्तमान में अरब सागर में एक प्रति चक्रवात बना हुआ है। प्रदेश में सुबह के समय हवा का रूख उत्तर-पूर्वी रहता है। इससे बादल छंट जाते हैं। धूप में तल्खी होने से तापमान धीरे-धीरे बढ़ने लगता है, लेकिन दोपहर के समय हवा का रुख बदलकर पश्चिमी हो जाता है। पश्चिमी हवाओं के साथ अरब सागर से कुछ नमी भी आ रही है। इससे आसमान पर आंशिक बादल छाने लगते हैं। बादलों की मौजूदगी के कारण अधिकतम तापमान अपेक्षाकृत नहीं बढ़ पा रहा है।

शुक्ला के मुतबिक अभी एक-दो दिन तक इसी तरह तापमान में उतार-चढ़ाव की स्थिति देखने को मिल सकती है। 20 अप्रैल को एक नए पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत में पहुंचने की संभावना है। इसके उत्तर भारत से गुजर जाने के बाद 22 अप्रैल से तापमान में बढ़ोतरी हो सकती है। गौरतलब है कि इस वर्ष अप्रैल माह का पहला पखवाड़ा बीत चुका है, लेकिन अभी तक अप्रैल के मिजाज के अनुसार राजधानी भोपाल और प्रदेश के किसी भी हिस्से में अपेक्षित गर्मी नहीं पड़ी है। राजधानी में अभी तक इस सीजन का सबसे अधिक 41.1 डिग्री सेल्सियस तापमान छह अप्रैल को दर्ज किया गया था। मौसम विज्ञानियों का अनुमान है कि अप्रैल के अंतिम सप्ताह में गर्मी के तेवर तीखे हो सकते हैं।

Posted By: Ravindra Soni
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.