Madhya Pradesh Weather Update: गुना, श्‍योपुरकलां में खतरा बरकरार, आज भी भारी वर्षा की आशंका

Updated: | Wed, 04 Aug 2021 07:18 PM (IST)

Madhya Pradesh Weather Update: भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। गहरा कम दबाव का क्षेत्र कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो गया है, लेकिन यह वेदर सिस्टम अभी भी उत्तर-पश्चिम मध्यप्रदेश में गुना-ग्वालियर के आसपास स्थिर है। बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से लगातार मिल रही नमी के कारण यह सिस्टम लगातार मजबूत स्थिति में है। इस वजह से पहले ही बाढ़ से जूझ रहे श्‍योपुरकलां और गुना जिले में बुधवार-गुरुवार को भारी बारिश होने की संभावना है। इसके अलावा ग्वलियर, दतिया, भिंड, मुरैना, अशोकनगर, उज्जैन, राजगढ़, नीमच, मंदसौर, रतलाम, आगर, शाजापुर जिलों में और रीवा, शहडोल, जबलपुर, भोपाल, इंदौर संभाग के जिलों में भी कहीं-कहीं तेज बौछारें पड़ने के आसार हैं।

मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक बुधवार को सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े छह बजे तक गुना में 22, भोपाल में 7.4, रायसेन में सात, ग्वालियर में 6.9, पचमढ़ी में तीन, रतलाम, मंडला, होशंगाबाद, उमरिया, सिवनी, टीकमगढ़ और खरगोन में दो, जबलपुर में 1.7, शाजापुर, छिंदवाड़ा, खजुराहो, सागर और दमोह में एक मिलीमीटर बारिश हुई। राजधानी का अधिकतम तापमान 25.7 डिग्रीसेल्सियस दर्ज किया गया। जो सामान्य से तीन डिग्रीसे. कम रहा। न्यूनतम तापमान 23 डिग्रीसे. रिकार्ड किया गया। यह सामान्य रहा।

मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि पिछले तीन दिनों से गहरा कम दबाव का क्षेत्र उत्तर-पश्चिमी मप्र पर बना हुआ है। जिसके चलते ग्वालियर, चंबल संभाग के जिलों में भारी बारिश हो रही है। वर्तमान में भी सिस्टम अपने स्थान पर स्थिर बना हुआ है, लेकिन कुछ कमजोर पड़कर कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो गया है। इस वजह से ग्वालियर, चंबल संभाग के जिलों में बारिश का सिलसिला जारी रहने के आसार हैं।

चार वेदर सिस्टम सक्रिय, अरब सागर से मिली रही नमी

मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि वर्तमान में ग्वालियर-गुना के आसपास कम दबाव का क्षेत्र बना है। मानसून ट्रफ भी कम दबाव के क्षेत्र से होकर गुजर रहा है। पाकिस्तान पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना है। एक पश्चिमी विक्षोभ पाकिस्तान के आसपास बना हुआ है। इस तरह इन चार वेदर सिस्टम के सक्रिय रहने से बारिश का सिलसिला बना हुआ है। साथ ही औसत 20 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चल रही दक्षिण-पश्चिमी हवाओं के कारण बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से लगातार नमी भी आ रही है। इससे राजधानी सहित प्रदेश के अधिकांश जिलों में रुक-रुक बौछारें पड़ने की संभावना है।

Posted By: Lalit Katariya