MP Health News: संभागायुक्त ने पूछा, चिकित्सा शिक्षकों को एनपीएस का लाभ दिलाने के लिए क्या किया

Updated: | Sat, 23 Oct 2021 08:29 PM (IST)

MP Health News: भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। गांधी मेडिकल कालेज (जीएमसी) की शनिवार को हुई कार्यकारिणी समिति की बैठक में चिकित्सा शिक्षकों को राष्ट्रीय पेंशन योजना (एनपीएस) का फायदा नहीं दिए जाने का मामला उठा। समिति के अध्यक्ष और संभागायुक्त कवींद्र कियावत ने कहा कि 2005 से लेकर 2018 तक तो पेंशन योजना के तहत चिकित्सा शिक्षकों के वेतन से राशि की कटौती ही नहीं की गई है। ऐसे में इस अवधि में योजना का लाभ चिकित्सा शिक्षकों को कैसे मिल पाएगा। बता दें कि सभी विभागों में 2005 से एनपीएस लागू है, लेकिन चिकित्सा शिक्षा विभाग में एनपीएस के लिए राशि की कटौती 2018 से की जा रही है। यह राशि भी एनपीएस के खाते में न भेजकर डीन ने एफडी करा दी है। इसे लेकर मप्र चिकित्सा शिक्षक संघ (एमटीए) ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। एमटीए का कहना है कि एफडी करने से उन्हें ब्याज का नुकसान हो रहा है। साथ ही आयकर में भी इस कटौती का फायदा नहीं मिल पा रहा है। बैठक में डीन डा. जितेन शुक्ला समेत सभी विभागाध्यक्ष मौजूद थे।

यह हुए निर्णय

- जीएमसी में तीन संतान वाले चिकित्सा शिक्षकों की शिकायत की जांच रिपोर्ट पेश की गई। इस जांच के आधार पर शिकायत खारिज करने का निर्णय लिया गया है। कुछ डाक्टरों ने तीसरी संतान पैदा करने की वजह नसबंदी व गर्भ निरोधक के फेल होने को बताया है।

-दंत रोग विभाग में एसआर की भर्ती के नियम बने, अभी तक यह तय नहीं था कि एसआर किसे बनाया जाएगा। अब यह तय किया गया है कि सबसे पहले सरकारी कालेज और फिर निजी कालेज से निकले छात्रों को प्राथमिकता दी जाएगी। पहले उसी जिले के डाक्टर को तवज्जो दी जाएगी नहीं मिलने पर दूसरे जिले वाले को रखा जाएगा।

-10 फीसद नर्सों को अध्यन अवकाश की होगी पात्रता, जीएनएम के बाद स्टाफ नर्स की नौकरी कर रही नर्सों में अधिकतम 10 फीसद को ही बीएससी नर्सिंग के लिए अध्ययन अवकाश दिया जाएगा, जिससे चिकित्सकीय काम प्रभावित न हो।

- सभी चिकित्सा शिक्षक और अन्य शैक्षणिक गैर शैक्षणिक स्टाफ को समयमान वेतन दिया जाएगा।

-विदिशा मेडिकल कालेज से प्रतिनियुक्ति पर जीएमसी आए मेडिसिन विभाग के सहायक प्राध्यापक डा.अरविंद चौहान की प्रतिनियुक्ति का अनुमोदन किया गया। बता दें कि इनके जीएमसी आने पर एमटीए ने विरोध किया था। इसके अलावा जीएमसी में दंत चिकित्सा विभाग में सह प्राध्यापक के पद पर डा.योगेश शर्मा की प्रतिनियुक्ति के आवदेन पर चर्चा की गई, पर अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है।

Posted By: Lalit Katariya