मध्यप्रदेश में अब गोचर की भूमि देने से पहले लेनी होगी अनुमति

Updated: | Tue, 30 Nov 2021 08:16 AM (IST)

जबलपुर में बनेगा गायों के लिए वन विहार

भोपाल। (राज्य ब्यूरो)। मध्यप्रदेश में अब गोचर के लिए उपयोग की जाने वाली किसी भी सरकारी भूमि को अब विकास परियोजना के लिए देने से पहले अनुमति लेनी होगी। इसके लिए प्रस्ताव मध्य प्रदेश गौ पालन एवं पशु संवर्धन बोर्ड के पास जाएगा। इसकी सहमति मिलने के बाद ही भूमि आवंटन के संबंध में निर्णय लिया जाएगा। इसके लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारियों को कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गायों के लिए घास के मैदान आसानी से उपलब्ध कराने के लिए यह निर्णय लिया गया है। यदि गोचर की भूमि विकास परियोजना के लिए अति आवश्यक है तो उसे देने से पहले बोर्ड से सहमति लेनी होगी। इसके बाद ही विभाग द्वारा कार्यवाही की जाएगी।

साथ ही यह भी तय किया गया कि बंद किए गए आठ गौ-सदनों को फिर से प्रारंभ किए जाएंगे। जबलपुर जिले के गंगई वीर में सरकार की 530 एकड़ जमीन उपलब्ध है। यहां पर गायों के लिए वन विहार बनाकर दो हजार गायों को आश्रय दिया जाएगा। बजट में गायों के लिए 300 करोड़ रुपये का प्रविधान भी किया है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay