भोपाल व रानी कमलापति रेलवे स्टेशन पर बढ़ाई सख्ती, हर यात्री की जांच जरूरी

Updated: | Tue, 30 Nov 2021 02:20 PM (IST)

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। भोपाल और रानी कमलापति रेलवे स्टेशन पर कोरोना जांच को लेकर सख्ती बढ़ा दी गई है। स्टेशनों से होकर आने जाने वाले यात्रियों की जांच की जा रही है। भोपाल में दो दिन से बढ़ रहे कोरोना मरीजों को लेकर स्थानीय प्रशासन सतर्क है। रेलवे को भी कहा गया है कि अनावश्यक प्रवेश द्वार को बंद करें। यात्रियों को दोनों तरफ से एक निर्धारित प्रवेश द्वार से ही प्रवेश दिया जाए, ताकि सभी को जांच के दायरे में लिया जा सके। स्थानीय प्रशासन ने दोनों ही मुख्य स्टेशनों पर एक- एक जांच केंद्र बढ़ा दिए हैं। खासकर कोरोना प्रभावित राज्यों से आने वाली ट्रेनों से उतरने वाले यात्रियों को प्रमुख रूप से जांच के दायरे में लिया जा रहा है। जांच से मना करने वाले यात्रियों से वजह पूछी जा रही है और उनके द्वारा पूर्व में कराई गई जांच के प्रमाण पूछे जा रहे हैं। जांच केंद्रों पर विवाद की स्थिति ना बने इसके लिए अतिरिक्त जवानों की तैनाती की गई है।

दरअसल बीते दो दिनों से राजधानी में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ गए हैं। औसतन प्रत्येक दिन दो से चार लोग ही कोरो ना संक्रमित मिलते थे जो रविवार को नौ और सोमवार को 15 लोग संक्रमित मिले हैं। इन लोगों के कोरोना संक्रमित मिलने के कारण प्रशासन सतर्क है और प्रत्येक स्थानों पर जांच का दायरा बढ़ा दिया है। इनमें भोपाल और रानी कमलापति रेलवे स्टेशन मुख्य है। इन दोनों ही स्टेशनों पर कई राज्यों से यात्री ट्रेनों के जरिए उतरते हैं। इनमें से कुशीनगर, पुष्पक, हजरत निजामुद्दीन- लोकमान्य तिलक टर्मिनस राजधानी एक्सप्रेस समेत कई ट्रेनें तो महाराष्ट्र के शहरों से होकर आती है और मध्य प्रदेश समेत उत्तर प्रदेश और दिल्ली तक जाती है। इसी तरह तमिलनाडु, बिहार, दिल्ली के से भी आते हैं जो भोपाल व रानी कमलापति रेलवे स्टेशन से होकर गुजरती है। इन ट्रेनों से आने जाने वाले यात्रियों को मुख्य रूप से जांच के दायरे में लिया जा रहा है।

रेलवे ने यह दिए निर्देश

भोपाल रेल मंडल ने यात्रियों से आग्रह किया है कि ट्रेनों में सफर करते समय मास्क का उपयोग अनिवार्य रूप से करें। हाथों को बार बार साबुन से धोएं। एक दूसरे से शारीरिक दूरी बनाकर रखें। जरूरी न हो तो यात्रा टाल दें। ट्रेनों में वैध टिकट लेकर ही चढ़े। टिकट न हो तो बिल्कुल भी यात्रा न करें।

Posted By: Lalit Katariya