मध्य प्रदेश की पुरानी विधानसभा यानी मिंटो हाल अब कुशाभाऊ ठाकरे के नाम पर होगा

Updated: | Fri, 26 Nov 2021 09:07 PM (IST)

भोपाल। (राज्य ब्यूरो)। अंग्रेजी हुकूमत का साक्षी रहा मिंटो हाल कन्वेंशन सेंटर अब कुशाभाऊ ठाकरे के नाम पर होगा। इस भवन में मध्य प्रदेश की विधान सभा भी लगा करती थी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को मिंटो हाल का नाम बदलने का एलान किया। दरअसल, इसी मिंटो हाल में भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक बुलाई गई थी। इसके समापन सत्र को संबोधित करते हुए चौहान ने यह घोषणा की। इससे पहले भाजपा के प्रदेश मंत्री रजनीश अग्रवाल ने मिंटो हाल का नाम बदलकर डा. हरी सिंह गौर करने की मांग की थी। वहीं, राज्य सभा सदस्य विवेक कृष्ण तन्खा ने मिंटो हाल का नाम पूर्व राष्ट्रपति डा. शंकर दयाल शर्मा के नाम पर किए जाने की मांग की थी।

क्या है इतिहास

वास्तुकला के लिए प्रख्यात भोपाल के मिंटो हाल की बुनियाद अंग्रेजों के शासनकाल में रखी गई थी। वर्ष 1909 में भारत के तत्कालीन वायसराय लार्ड मिंटो भोपाल के दौरे पर आए थे। इस दौरान उन्हें राजभवन में ठहराया गया था, जहां व्यवस्थाओं में कमी के कारण लार्ड मिंटो की नाराजगी तत्कालीन बेगम नवाब सुल्तान जहां को झेलना पड़ी थी। तभी बेगम ने लार्ड मिंटो के नाम पर इस भवन की नींव रखवाई थी। तीन लाख रुपये की लागत से बने इस भवन को आर्किटेक्ट एसी रोवन ने डिजाइन किया था। वर्ष 1956 में मध्य प्रदेश के गठन के बाद से यह मध्य प्रदेश विधान सभा भवन कहलाता था। वर्ष 1996 तक इसमें मध्य प्रदेश विधान सभा लगी।

हम यहां बैठे हैं इसका नाम है मिंटो हाल

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अब आप बताओ ये धरती अपनी, ये मिट्टी अपनी, ये पत्थर अपने, ये गिट्टी अपनी, ये चूना अपना, ये गारा अपना, ये भवन अपना, इसे बनाने वाले मजदूर अपने, ये पसीना अपना और नाम मिंटो का। इस विधान सभा भवन में कई लोग बैठे थे,उन्हें यहां तक और लोकसभा तक पहुंचाने वाले स्वर्गीय कुशाभाऊ ठाकरे हैं, जिन्होंने कई नेता-कार्यकर्ता गढ़े और पूरे मध्यप्रदेश में वट वृक्ष के रूप में भारतीय जनता पार्टी को खड़ा किया इसलिए मिंटो हाल का नाम कुशाभाऊ ठाकरे के नाम पर रखा जाएगा।

गुलामी का प्रतीक था- शर्मा

मिंटो हाल भोपाल में अंग्रेजों की गुलामी का प्रतीक था। उसका नाम उस महान व्यक्तित्व, जिन्होंने भाजपा को गढ़ा और रचा, ऐसे स्वर्गीय कुशाभाऊ ठाकरे के नाम पर हुआ है। यह भाजपा, भोपाल और मध्य प्रदेश वासियों के लिए एतिहासिक निर्णय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किया है। मैं पार्टी के प्रत्येक कार्यकर्ता की ओर से उन्हें धन्यवाद और बधाई देता हूं।

विष्णु दत्त शर्मा, प्रदेश अध्यक्ष भाजपा

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay