एम्‍स भोपाल में बीमार व्‍यवस्‍था का नमूना है मरीजों की यह लंबी कतार

Updated: | Mon, 29 Nov 2021 10:53 AM (IST)

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। राजधानी में स्‍थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में इलाज के लिए पहुंचने वाले मरीजों को जांच कराने या फिर अन्य तरह की फीस जमा करने के लिए इतनी लंबी कतार लगानी पड़ रही है कि लोग कतार देखकर ही बीमार पड़ जा रहे हैं। दरअसल, यहां पर बिलिंग के लिए सिर्फ एक काउंटर है। इस काउंटर में हर समय 50 से 60 मरीज या उनके परिजन कतार में लगे रहते हैं। करीब 2 घंटे कतार में लगने के बाद ही उनकी बिलिंग हो पाती है तब जांच शुरू होती है। ऐसे में कई बार देर से आने वाले मरीजों की जांच ही नहीं हो पाती। लेकिन एम्‍स प्रबंधन को इसकी कोई परवाह नहीं है। एम्स प्रबंधन की ओर से पिछले तीन साल से यह कहा जा रहा है कि काउंटरों की संख्या बढ़ाई जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं किया गया।

'नवदुनिया प्रतिनिधि ने जब यहां पर कतार में लगे लोगों से जब बात की तो उन्होंने बताया कि डेढ़ से दो घंटे से वह कतार में लगे हैं, लेकिन अभी तक वह भुगतान नहीं कर पाए हैं।

हालांकि अब एम्स के नए प्रभारी निदेशक डॉ नितिन नागरकर ने दो दिन पहले एम्स का दौरा किया था। इस दौरान उन्होंने मरीजों को भर्ती करने के लिए पर्चा बनवाने के खातिर ओपीडी काउंटर के अलावा दूसरी जगहों पर भी काउंटर बनाने के लिए कहा है। ये काउंटर करीब दो महीने में अलग-अलग विभागों में बनाए जाएंगे। सभी विभागों में मरीज भर्ती के पर्चे अलग बनाए जाएंगे। इससे मरीजों को भीड़ से राहत तो मिलेगी ही कोरोना संक्रमण का खतरा भी नहीं रहेगा।

Posted By: Ravindra Soni