वेबिनार के जरिए संत हिरदाराम कॉलेज की छात्राओं ने रानी कमलापति के बारे में जाना

Updated: | Sat, 04 Dec 2021 04:36 PM (IST)

भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। रानी कमलापति बुद्धिमान और साहसी थी, उनके व्यक्तित्व से प्रेरणा मिलती है। राजधानी के उपनगर बैरागढ़ में स्‍थित संत हिरदाराम कन्या महाविद्यालय के भाषा विभाग द्वारा रानी कमलापति विषय पर वेबिनार का आयोजन किया गया। इस अवसर पर वक्ताओं ने यह बात कही। इस वेबिनार से बड़ी संख्‍या में कालेज की छात्राएं भी जुड़ीं और रानी कमलापति के व्‍यक्‍तित्‍व के बारे में जाना।

वेबिनार में मुख्य वक्ता के रूप में सुश्री पूजा सक्सेना इतिहासविद्, पुरातत्ववेत्ता, धरोहर संस्था, भोपाल उपस्थित थी। उन्‍होंने अपने वक्तव्य में गोंड राजाओं का संक्षिप्त इतिहास बताते हुए कहा कि गोंड जनजाति को भौगोलिक संरचना का बहुत अच्छा ज्ञान होता था। रानी कमलापति पर कोई लिखित इतिहास उपलब्ध नहीं है, परन्तु मौखिक कहावतों एवं किवदंतियों के माध्यम से बहुत जानने को मिलता है। रानी कमलापति बुद्धिमति, साहसी एवं सौंन्दर्यवान थीं। पति की मृत्यु के उपरान्त रानी ने भोपाल स्थित अपने महल में आश्रय लिया था, परंतु कुटिल राजनीतिक दाव-पेंच से आहत होकर अपनी अस्मिता बचाते हुए उन्होंने जल-जौहर किया।

विश्‍वस्‍तरीय सुविधाओं से लैस स्टेशन के नामकरण के बाद जिज्ञासा पैदा हुई

अपने स्वागतीय उद्बोधन में महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. डालिमा पारवानी ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि हाल ही में विश्वस्तरीय सुविधाओं से लैस रानी कमलापति रेल्वे स्टेशन का लोकार्पण हुआ, जिससे सभी में इस महान गोंड रानी को लेकर जिज्ञासा उत्पन्न हुई। समसामयिक विषय पर यह वेबिनार सभी के लिए लाभकारी सिद्ध होगा। रानी कमलापति का व्यक्तित्व हमें संकट के समय संघर्ष की प्रेरणा देता है। महाविद्यालय प्रबंधन ने इस आयोजन के लिए भाषा विभाग को बधाई दी। कॉलेज के निदेशक हीरो ज्ञानचंदानी ने कहा कि रानी कमलापति के नाम से स्टेशन होना गर्व की बात है, इतिहास में कई ऐसे लोग हैं, जिन्हें अब सम्मान मिल रहा है। वेबिनार में विचार रखने वाले सभी वक्ताओं ने छात्राओं के उज्‍ज्‍वल भविष्य की कामना की।

Posted By: Ravindra Soni