ओबीसी आरक्षण पर शिवराज सरकार की कोशिश के बीच उमा भारती का विवादित बयान

Updated: | Mon, 20 Sep 2021 09:17 PM (IST)

भोपाल (राज्य ब्यूरो)। अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) आरक्षण को लेकर प्रदेश में भाजपा और कांग्रेस के बीच तो आरोप-प्रत्यारोप लगाए ही जा रहे हैं। इसी बीच, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने भी निजी क्षेत्र में आरक्षण की पैरवी करते हुए विवादित बयान दिया है।

सोमवार को इंटरनेट मीडिया पर वायरल वीडियो में उमा भारती ओबीसी वर्ग के प्रतिनिधिमंडल से कह रही हैं कि जब तक निजी क्षेत्र में आरक्षण नहीं मिलेगा, तब तक इस वर्ग (ओबीसी) को कुछ नहीं मिलेगा। सारा कुछ तो निजी क्षेत्र के हाथ में सौंप दिया गया है। सभी जमीनें निजी हाथों में दी जा रही हैं। 33 फीसद आरक्षण भी रखा रहेगा।

उधर, एक अन्य वायरल वीडियो में उमा भारती के बुलावे पर उनके आवास पर पहुंचे ओबीसी के लोगों ने उनसे दो टूक कहा कि हमें न्याय नहीं मिला तो हम भाजपा विधायक, सांसद, मंत्री को गांव में घुसने नहीं देंगे। हमने राजा दिग्विजय सिंह को हटाकर आपको सत्ता सौंपी थी, आपको राजा बनाया था। आप हमारी लड़ाई में हमारा साथ दो। इस पर उमा भारती मुस्कराती दिख रही हैं।

उधर, हाई कोर्ट में ओबीसी आरक्षण की सुनवाई पर नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि कोर्ट ने जिन तीन भर्ती याचिकाओं पर स्टे बरकरार रखा है, उन्हें छोड़कर बाकी पर पिछड़ा वर्ग को 27 फीसद आरक्षण जारी रहेगा। यह सरकार की बड़ी जीत है।

शराब के चलते मध्य प्रदेश में बढ़ा अपराधों का ग्राफ: उमा भारती

ओरछा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने सोमवार को कहा कि शराब के चलते प्रदेश में जहां अपराधों का ग्राफ बढ़ा है, वहीं महिलाएं भी अपने आपको असुरक्षित महसूस कर रही हैं। जब तक प्रदेश में शराब बंदी नहीं होगी इन पर काबू पाना असंभव है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा स्वयं भी शराबियों से बहुत नफरत करते हैं इसलिए उन्हें पूरी आशा है कि मध्य प्रदेश में शराब बंदी हो जाएगी उमा भारती ओरछा के रामराजा दरबार में मत्था टेकने के बाद मीडिया से से चर्चा कर रही थीं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay