Chhatarpur News: बच्ची ने खेलते-खेलते पकड़ा लकड़ी का स्टैंड, गर्म दूध गिरा, लेकिन माता की तस्वीर ने बचा लिया, केवल छींटे पड़े

Updated: | Mon, 11 Oct 2021 01:43 PM (IST)

Chhatarpur News: संजय सक्सेना, छतरपुर नईदुनिया। जाकाे राखे साईयां मार सके न काेई, यह कहावत आज छतरपुर में एक मासूम पर भलि भांति चरितार्थ हुई। मां गर्म दूध लकड़ी के स्टैंड पर रखकर चलींं गई, बच्ची ने खेलते-खेलते उसी लकड़ी के स्टैंड काे पकड़ लिया। जैसे ही स्टैंड हिला ताे ऊपर रखा दूध सीधे बच्ची पर आ गिरा, लेकिन खास बात यह रही कि खाैलता हुआ दूध बच्ची पर न गिरकर उसके हाथ में पकड़ी माता की तस्वीर पर गिरकर बह गया। जिससे मासूम बाल-बाल बच गई। हालांकि गर्म दूध के छींटे उचटने से उसे कुछ चाेटें जरूर आई हैं। यह घटना पूरे गांव में चर्चा का विषय बनी हुई है और लाेग बच्ची के बचने काे चमत्कार मान रहे हैं।

जनकपुर गांव में रहने वाले राहुल कुशवाहा की पत्नी ममता ने अपनी एक साल की बेटी रश्मि को घर में सुलाया और दूध गर्म करने के बाद उसे पास में एक लकड़ी के स्टैंड पर रख दिया। इसके बाद वह माता के मंदिर में जल चढ़ाने के लिए चली गईं। इस बीच मासूम रश्मि जाग गई और वहीं रखी देवी मां की एक तस्वीर से खेलने लगी। खेलते-खेलते उसने करीब रखे लकड़ी के स्टैंड को पकड़ लिया। जिससे उस पर रखा गर्म दूध का बर्तन नीचे गिर गया, इसके बाद बच्ची राेने लगी। उसके रोने की आवाज सुनकर घर के लोग दौड़कर अंदर आए तो देखा तो सारा गर्म दूध हाथ में पकड़ी देवी मां की फोटो के ऊपर से हाेकर बह गया। दूध के कुछ छींटे तस्वीर से उचटकर रश्मि के पैर और पेट पर गिरने से वह थोड़ा जल गई। मासूम को तुरंत जिला अस्पताल लाया गया, जहां उसे बर्न वार्ड में भर्ती करके उसका इलाज किया जा रहा है। उसकी हालत खतरे से बाहर बताई गई है। देवी मां की उपासना कर रही मां ममता कुशवाहा का मानना है कि उसकी बेटी की रक्षा देवी मां ने की है। माता की तस्वीर के कारण दूध बह गया, थोड़ा सा दूघ ही बेटी पर गिरा। यदि पूरा गर्म दूध उस पर गिर जाता तो बड़ी अनहोनी हो जाती। गांव वाले भी इस हादसे से मासूम की जान बच जाने को देवी मां का चमत्कार ही मान रहे हैं।

Posted By: vikash.pandey