दतिया में मां पीतांबरा के दर्शन से अभिभूत हो गए थे रक्षा प्रमुख बिपिन रावत

Updated: | Thu, 09 Dec 2021 08:28 AM (IST)

- निधन की खबर से शहर में दिखा शोक का माहौल

कुलदीप सक्सेना.दतिया। भारतीय रक्षा प्रमुख बिपिन रावत की हैलीकाप्टर क्रेस होने से दुखद निधन की खबर ने दतिया शहर में भी शोक की लहर दौड़ा दी। बिपिन रावत सितंबर माह में ही दतिया पीतांबरा पीठ पर पूजा अर्चना के लिए सपत्नीक आए थे। इस दौरान दतिया के गणमान्य जनों ने पीठ पर पहुंचकर सीडीएस का स्वागत किया था। उनका दतिया प्रवास भी उस समय खास चर्चा में रहा था। पीठ पर सादगी पूर्ण तरीके से पूजा अनुष्ठान कर उन्होंने मां बगुलामुखी से देश के रक्षार्थ प्रार्थना भी की थी।

पीठ पर सपत्नीक आए थे रक्षा प्रमुख

भारतीय रक्षा प्रमुख विपिन रावत 14 सितंबर मंगलवार को पीतांबरा पीठ पहुंचे थे। जहां उन्होंने अपने परिवार के साथ मां पीतांबरा के दर्शन किए और वनखंडेश्वर महादेव का जलाभिषेक किया। इसके बाद उन्होंने सपत्नीक पीठ के हवन मंडप में बैठकर मंदिर के आचार्यों के साथ लगभग दो घंटे से अधिक अनुष्ठान भी किया था। वैसे तो रक्षा प्रमुख का यह व्यक्तिगत कार्यक्रम था। लेकिन इस दौरान रावत करीब 5 घंटे तक मंदिर में रहे और पूजा अर्चना परिवार के साथ करते रहे। माना जाता है कि उस समय जनरल रावत देश की रक्षा के लिए माई से प्रार्थना करने आए थे।

सम्मान भी किया था

दतिया प्रवास के दौरान सपत्नीक प्रसिद्ध पीताबंरा पीठ पहुंचे विपिन रावत का पीठ की ओर से सम्मान भी किया गया। इस दौरान पीठ की ट्रस्टी द्वारा विपिन रावत एवं उनकी पत्नी को दुपट्टा, श्रीफल और मां पीतांबरा की तस्वीर भेंटकर सम्मानित किया गया था। इस मौके पर रक्षा प्रमुख ने भी पीतांबरा पीठ आकर मां के दर्शन करने को अपना सौभाग्य मानते हुए, इस सिद्ध स्थल की प्रशंसा की थी। उन्होंने मंदिर की व्यवस्थाओं को लेकर भी प्रबंधन की सराहना की।

समाजसेवियों से भी मिले थे रक्षा प्रमुख

अपने दतिया प्रवास के दौरान रक्षा प्रमुख विपिन रावत से मिलने पहुंये स्थानीय समाजसेवियों ने उनका स्वागत किया था। जिससे वह अभिभूत थे। इस दौरान बलदेव राज बल्लू, समाजसेविका श्वेता गोरे, भास्कर गोरे, विपुल निखरा, संतोष सिजरिया, कंचन चउदा ने स्वागत किया था। रक्षा प्रमुख ने इस दौरान दतिया में सिद्ध पीठ को लेकर खूब तारीफ भी की थी।

Posted By: anil.tomar