HamburgerMenuButton

Gwalior Coronavirus News: सावधान! जो लोग कोरोना हरा चुके, उन्हे अब लंग्स संक्रमण का खतरा

Updated: | Thu, 29 Oct 2020 12:20 PM (IST)

अजय उपाध्याय, ग्वालियर नईदुनिया, Gwalior Coronavirus News। सावधान रहिए,कोरोना से जंग जीतने के बाद लापरवाही न रखें, क्योंकि आपको लंग्स संक्रमण हो सकता है। हाल ही में कुछ मरीज ऐसे सामने आए हैं जो कोरोना काे हराने के बाद लंग्स संक्रमण की बीमारी से पीडित हुए हैं। दो मरीज एेसे सामने आए जिनकी दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद तीसरी रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। इससे साफ है कि वह कोरोना मरीज जिनकाे पहले हल्के लक्षण आए और वह दवा लेकर ठीक ताे हो गए, लेकिन उनके शरीर में एंटीबॉडी ठीक से नहीं बन सकी है। इससे उनमें फिर संक्रमण फैलने का खतरा अधिक है। एक निजी अस्पताल में भर्ती हुए 320 मरीजों का इलाज हुआ, लेकिन जब मरीज डिस्चार्ज होकर घर वापस लौटे तो उनमें से करीब दस फीसद मरीज ऐसे थे, जिन्हें इस प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ा।

अस्पताल से डिस्चार्ज के बाद लंग्स संक्रमण का शिकार

महाराज बाड़ा के पास रहने वाले 45 वर्षीय युवक ने निजी अस्पताल में पांच दिन कोरोना का इलाज लिया। इसी तरह से थाटीपुर का 32 वर्षीय युवक ने तीन दिन इलाज लिया। इन्हें किसी तरह के लक्षण नहीं थे, पर रिपोर्ट पॉजिटिव थी। अस्पताल से डिस्चार्ज होकर घर लौटे, लेकिन सात दिन बाद सांस लेने में परेशानी हुई तो सीटी चेस्ट करवाया गया। जिसमें लंग्स संक्रमण पाया गया। इन्हें इलाज में फैवीफ्लू दवा दी गई थी जो कारगार साबित नहीं हुई। करीब 150 मरीज ऐसे थे, जिनकी रिपोर्ट पॉजिटिव लेकिन सिटी चेस्ट की रिपाेर्ट निगेटिव थी और इनमें लक्षण भी थे। यह मरीज अस्पताल में छह दिन इलाज लेकर वापस घर लौटे, इनमें से पांच प्रतिशत लोगों को घर रहते हुए लंग्स संक्रमण हुआ।

30 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जिनकी आरटीपीसीआर टेस्ट की रिपाेर्ट निगेटिव आई, लेकिन सीटी स्कैन में लंग्स संक्रमण आया। 25 प्रतिशत मरीजाें की रिपाेर्ट पॉजिटिव आने के साथ ही सीटी चेस्ट में लंग्स संक्रमण भी पाया गया और इनमें लक्षण भी थे। ह इलाज के बाद पूरी तरह ठीक हाे गए। जबकि तीन मरीजाें की आरटीपीसीआर रिपोर्ट पॉजिटिव थी,सीटी चेस्ट पॉजिटिव था और लक्षण थे, लेकिन डिस्चार्ज हाेकर घर लाैटने के 20-25 दिन बाद ही दाेबारा लक्षण आना शुरू हाे गए। जब जांच कराई ताे रिपाेर्ट काेराेना पॉजिटिव आई।

320 मरीजों ने अस्पताल में पिछले डेढ़ महीने में इलाज लिया। इनमें से कुछ मरीज ऐसे सामने आए जो यहां से पूरी तरह स्वस्थ होकर घर लौटे, बाद में उन्हें लंग्स संबंधी परेशानी आने लगीं। जबकि दो मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद पॉजिटिव आ गई। डा आलोक तिवारी, केडीजे अस्पताल ग्वालियर

Posted By: vikash.pandey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.