गोले का मंदिर गोशाला खाली करने जंगल में छोड़ीं गाय

Updated: | Fri, 26 Nov 2021 09:47 PM (IST)

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। गोले का मंदिर गोशाला की जमीन पर अस्पताल बनाया जाएगा। इसके लिए इस गोशाला को खाली किया जा रहा है। गोले के मंदिर गोशाला से गायों को पहले जुझारपुर गोशाला में भेजा गया, लेकिन जब वह पूरी क्षमता तक भर गई तो वहां पर गायों को लेने से मना कर दिया। इसके बाद रानीघाटी गोशाला में गायों को भेजना प्रारंभ कर दिया, लेकिन वहां पर पहले से ही पूरी क्षमता में गाय हैं। इसके कारण वहां भी गायों को लेने से मना कर दिया तो वापस लौटते समय मदाखलत अमले ने गायों को चिनोर मार्ग के बीच पड़ने वाले जंगलों में छोड़ दिया।

गोले का मंदिर गोशाला को खाली कर वहां पर अस्पताल बनाया जाना है, इसके लिए यहां से गायों को शिफ्ट किया जा रहा है। गायों को शिफ्ट करने के लिए नगर निगम का मदाखलत अमला रानीघाटी गोशाला पहुंचा, लेकिन वहां पर व्यवस्था नहीं होने के कारण गायों को नहीं छोड़ा जा सका। ऐसे में मदाखलत के कर्मचारियों ने चिनोर रोड के पास पड़ने वाले जंगल में गायों को छोड़ दिया। इससे पूर्व जुझारपुर गांव में जिला पंचायत की गोशाला में करीब एक हजार गायों को शिफ्ट किया जा चुका है।

वर्जन

गायों को गोले के मंदिर से शिफ्ट करने के लिए रानीघाटी ले जाया गया था, लेकिन वहां पर व्यवस्था नहीं बन पाई। ऐसे में गायों को वापस गोले के मंदिर में लाने की अपेक्षा हमने जंगल में शिफ्ट कर दिया है। वहां पर पानी व चारा भरपूर मात्रा में है।

केशव चौहान, नोडल अधिकारी मदाखलत

Posted By: anil.tomar