HamburgerMenuButton

Gwalior Cooperative News:आवेदन आए न जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी की अनुमति ली, स्थानांतरित कर दिए पंजीयन

Updated: | Sun, 18 Apr 2021 01:59 PM (IST)

Gwalior Cooperative News: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीद पंजीयन स्थानांतरण में एक फर्जीवाड़ा सामने आया है। न किसानों के आवेदन आए, न जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी की अनुमति ली और पंजीयन स्थानांतरित कर दिए। व्यापारियों के माल तौलने की आशंका जताई जा रही है। करीब 1500 पंजीयन स्थानांतरित किए गए हैं। जिला एवं खाद्य आपूर्ति अधिकारी ने स्थानांतरित पंजीयनों का रिकार्ड तलब किया है। कितने व्यक्तिगत पंजीयन स्थानांतरित हुए हैं, उनकी पड़ताल कराई जा रही है। प्राथमिक तौर पर सामने आया है कि डबरा-पिछोर के पंजीयन घाटीगांव स्थानांतरित किए गए हैं।

समर्थन मूल्य की खरीद में हर साल गड़बड़ी सामने आती है। खरीफ के सीजन में बड़े फर्जीवाड़े को अंजाम दिया गया था। ट्रांसपोर्टर समिति प्रबंधकों की मिलीभगत के चलते सीधे गोदामों में ट्रक जमा करा दिए थे। रबी की खरीद में ऐसा न हो, उसको लेकर पंजीयन कराने से लेकर खरीद तक सख्ती बरती गई, लेकिन सख्ती काम नहीं आई। व्यापारियों को फायदा पहुंचाने के लिए बिना प्रक्रिया के पंजीयन स्थानांतरित कर दिए हैं।

यह पंजीयन स्थानांतरित करने के नियमः

- यदि कोई किसान अपना पंजीयन स्थानांतरित करवाना चाहता है तो पहले उसे एक आवेदन जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी के यहां देना होता है। स्थानांतरित कराने का उचित कारण बताना होता है। उसके कारण का परीक्षण किया जाता है। यदि कारण उचित है तो खाद्य आपूर्ति अधिकारी उसे स्थानांतरित करने के लिए मार्क कर देते हैं।

- 10 से 20 किमी के दायरे में पंजीयन स्थानांतरित किए जाते हैं। पंजीयन 50 किमी दूर तक स्थानांतरित कर दिए गए।

इन केंद्रों की मिलने लगी शिकायतें

- साख सहकारी समिति तिघरा का कांटा लक्ष्मीगंज अनाज मंडी में लगा हुआ है। मंडी में किसान भी व्यापारियों से माल खरीदते हैं। व्यापारियों के माल को सरकारी खरीद पर लाया जा रहा है। इस समिति पर भी स्थानांतरित होकर पंजीयन आए हैं।

- बनवार साख सहकारी समिति के खरीद केंद्र पर खरीद ज्यादा व माल कम होने की शिकायत आई थी। यहां पर किसानों को परेशान करने की शिकायतें आ रही हैं। एक क्विंटल पर 600 ग्राम ज्यादा माल लिया जा रहा है।

- आंतरी में खराब गेहूं खरीदा गया, जिसे रिजेक्ट कर दिया गया।

- घाटीगांव में लगे कांटों पर व्यापारियों को तवज्जो देने की शिकायत आ रही हैं।

- खरीद केंद्रों से आ रही शिकायतों के आधार पर विभाग ने निगरानी शुरू कर दी है।

सिकमी पंजीयनों पर माल तौलने की तैयारीः धान खरीद के दौरान सिकमी (बटाई) पंजीयन पर फर्जीवाड़ा किया गया था। व्यापारियों ने इन्हीं पंजीयनों पर माल तौले थे। जमीन किसी की, खाता अपना माल लगाकर धान तौली थी। गेहूं में भी ऐसा ही किया है। सिकमी पंजीयन बड़ी संख्या में हुए हैं।

इन केंद्रों पर सबसे ज्यादा स्थानांतरण

हरिलीला पिपणन सहकारी संस्था-245

साख सहकारी समिति तिघरा-143

साख सहकारी समिति दुबहा टांका-219

थाड़ौल स्व सहायता समूह चीनौर-178

मां काली स्वसहायता समूह चीनौर-418

साख सहकारी समिति गड़ाजर-164

फैक्ट फाइल

- खरीद केंद्र 72

- कुल पंजीयन-26000

-असत्यापित पंजीयनों की जमीन-6000 हेक्टेयर

- अब तक 3500 किसानों से कुल खरीद-2.68 लाख क्विंटल

वर्जन-

जिले में कितने पंजीयन स्थानांतरित हुए हैं, उनका रिकार्ड निकलवाया था। खरीद केंद्रों पर जो गांव जोड़े गए थे, वह भी स्थानांतरित दिख रहे हैं। 1500 में से व्यक्तिगत पंजीयन कितने हैं, इसकी जांच सोमवार को करेंगे। स्थानांतरण के कारण भी पता किया जाएगा।

सीएस जादौन, जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी

Posted By: vikash.pandey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.