HamburgerMenuButton

Gwalior Court News: संविदा नियुक्ति रिन्यू न करने पर डाक्टरों ने दायर की याचिका

Updated: | Fri, 26 Feb 2021 10:10 AM (IST)

Gwalior Court News: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोविड-19 में सैंपल लेने का काम कर रहे उन चिकित्सकों ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की है, जिन्हें मार्च 2022 से पहले ही हटा दिया है। दस चिकित्सकों ने सीएमएचओ के करार रिन्यूअल नहीं किए जाने के फैसले को चुनौती दी है।

याचिकाकर्ता के अधिवक्ता रवींद्र दीक्षित ने तर्क दिया है कि कोविड-19 के मरीजों की संख्या को देखते हुए सरकार ने बीडीएस चिकित्सकों की संविदा नियुक्ति की थी। यह नियुक्ति 31 मार्च 2022 तक की गई थी। इन्हें अस्पतालों में कोरोना संदिग्ध मरीजों के सैंपल लेने के लिए लगाया गया था। इन चिकित्सकों को मार्च 2022 तक सेवा में रखना था, लेकिन ग्वालियर के सीएमएचओ ने 52 चिकित्सकों के करार को रिन्यूअल नहीं किया है। सरकार के फैसले के खिलाफ जाकर काम किया है। कोविड-19 फिर से बढ़ने लगा है। आगामी समय में सैंपल लेने के लिए बड़ी संख्या में स्टाफ की जरूरत पड़ने वाली है। डा. मंयक दीक्षित, डा. प्रमेंद्र सिंह, डा. अविनाश गुप्ता, डा. सावन गुप्ता, डा. सोना राना, डा. स्वाति तिवारी, डा. नेहा कौरव, डा. आशीष शर्मा, डा. निखिलेश सिंह, डा. अभिषेक गोस्वामी ने याचिका दायर की है। इन याचिका की सुनवाई 26 फरवरी को संभावित है।

स्मार्ट सिटी की पार्किंग में अवैध वसूली करने वालों पर मामला कायमः स्मार्ट सिटी द्वारा दौलतगंज में पार्किंग के लिए प्रस्तावित जगह पर अवैध लोगों द्वारा वसूली की जा रही थी। इसकी शिकायत मिलने पर स्मार्ट सिटी सीइओ जयति सिंह ने टीम को भेजकर मामले की जांच की, लेकिन स्मार्ट सिटी की टीम को देखकर वसूली करने वाले युवक भाग निकले। सीइओ ने आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराने का निर्देश दिया, जिसके बाद मामला कायम किया गया है। स्मार्ट सिटी सीइओ जयति सिंह ने टीम को जांच के लिए भेजा था, उसे वहां पर जिस कंपनी को ठेका दिया गया था उसके नाम की नकली पर्चियां मिली। इस मामले में कंपनी से भी स्पष्टीकरण मांगा गया है।

Posted By: vikash.pandey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.