Gwalior Court News: प्रमुख अभियंता को तलब किया तो फाइल भी मिली, जवाब आया, कोर्ट ने लगाया 25 हजार का हर्जाना

Updated: | Fri, 06 Aug 2021 07:15 AM (IST)

Gwalior Court News: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को हाई कोर्ट में समय पर जवाब नहीं देना महंगा पड़ गया। कोर्ट ने फटकार लगाते हुए कहा कि जब प्रमुख अभियंता को तलब कर लिया तो फाइल भी मिल गई और जवाब बनकर भी आ गया। कोर्ट ने कार्यपालन यंत्री आरके गुप्ता पर 25 हजार रुपये का हर्जान लगा दिया। हर्जाने की राशि 7 दिन में कोर्ट की रजिस्ट्री में जमा करनी होगी।

संजय कुमार गुप्ता पीडब्ल्यूडी में टाइम कीपर पद पर कार्यरत हैं। हाई कोर्ट के आदेश पर टाइम कीपर का वेतनमान मिलना था, लेकिन विभाग ने उन्हें इस वेतनमान का लाभ नहीं दिया। संजय गुप्ता ने हाई कोर्ट में 2019 में एक याचिका दायर की। याचिकाकर्ता के अधिवक्ता सीआर रोमन ने तर्क दिया कि प्रींसिपल बैंच से बढ़ा हुआ वेतनमान देने का आदेश हो चुका हैष। सरकार सुप्रीम कोर्ट तक केस हार चुकी है, फिर वेतनमान नहीं दिया। इस मामले में जवाब भी नहीं दे रहे हैं। कई बार समय ले चुके हैं। 2019 से लगातार समय लिए जा रहे हैं। कोर्ट में जानकारी दी जा रही थी कि फाइल नहीं मिल रही है। हाई कोर्ट ने पीडब्ल्यूडी के प्रमुख अभियंता अखिलेश अग्रवाल व कार्य पालनयंत्री संभाग-1 आरके गुप्ता को व्यक्तिगत रूप से तलब कर लिया। गुरुवार को दोनों अधिकारी वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से कोर्ट के सामने उपस्थित हुए। इस मामले में जवाब पेश कर दिया। कोर्ट ने नाराजगी जताते हुए कहा कि पहले फाइल नहीं मिल थी। अधिकारी को बुला लिया तो फाइल भी मिल गई और जवाब भी आ गया। आरके गुप्ता को इस मामले का प्रभारी बनाया गया था। विभाग से 5 फरवरी 2021 को केस प्रभारी बनाने का पत्र भी मिल गया था। फरवरी से लेकर अबतक क्या प्रयास किए, उसकी जानकारी कोर्ट को नहीं दे पाए। इसके चलते कार्यपालन यंत्री पर 25 हजार का हर्जाना लगा दिया।

Posted By: anil.tomar