Gwalior Crime News: मां की उंगली पकड़कर कचरा डालने आई 3 साल की बच्ची, नगर निगम की गाड़ी ने कुचला, माैत

Updated: | Sat, 16 Oct 2021 02:23 PM (IST)

Gwalior Crime News: जाेगेंद्र सेन, ग्वालियर नईदुनिया। कैलाश टाकीज के पीछे स्थित गंगवाल भवन के गेट के सामने शनिवार की सुबह 10:30 बजे के लगभग नगर निगम की कचरा गाड़ी से कुचलकर तीन साल की बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई। बच्ची के ऊपर से पहले ड्राइविंग सीट का पहिया, फिर पिछला पहिया निकला है। चालक बच्ची को उठाकर मां की गोद में थमाकर गाड़ी लेकर भाग गया। बच्ची की गर्दन मां की गोद में लटक गई थी। कचरा गाड़ी से बच्ची के कुचले जाने की पूरी घटना सामने लगे सीसीटीवी कैमरे में स्पष्ट कैद हुई है। घटना की सूचना मिलते ही इंदरगंज थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई है। पुलिस ने नगर निगम की गाड़ी को जब्त करने के लिए निगम अधिकारियों काे सूचना दी है।

गंगवाल भवन के गेट के पास ही मल्टी है। शनिवार सुबह 11 बजे के लगभग डाेर टू डाेर कचड़ा जमा करने के लिए नगर निगम की गाड़ी आई। चालक व उसके सहायक ने मल्टी के सामने ही गाड़ी को खड़ा कर दिया। मल्टी के लोग कचरा डालने के लिए आने लगे। इसी मल्टी के ग्राउंड फ्लोर पर निवासी आशु अग्रवाल की पत्नी गाड़ी में कचरा डालने के लिए आई। उनकी उंगली पकड़कर तीन साल की काम्या भी आ गई। मां ने गाड़ी में कचरा डाल दिया। किसी को पता ही नहीं चला कि कब तीन साल की मासूम ड्राइविंग साइट के सामने आ गई और गाड़ी के पहिए के नीचे आ गई।

बाइक से ले गए बच्ची को अस्पतालः गाड़ी के दोनों पहिये गुजर जाने के कारण बच्ची का शरीर प्राणहीन हो गया था। आनन-फानन में बाइक मल्टी से पार्किंग से बाहर निकाली। मां बच्ची को लेकर पीछे बैठी। सबसे पहले घरवाले बच्ची को लेकर पाटनकर बाजार स्थित शांता नर्सिंग होम लेकर पहुंचे। डाक्टर ने नब्जा देखने के बाद सीधे जेएएच ले जाने की सलाह दी। घरवाले बच्ची को लेकर कैज्युअल्टी पहुंचे। जहां डाक्टर के द्वारा बच्ची को मृत घोषित करते ही बच्ची के माता-पिता की उम्मीद टूट गई। आशु अग्रवाल के दो बच्चियां हैं, जिसमें एक बेटी पांच साल की है, वो घर में ही थी। केवल यही बच्ची मां के साथ कचरा डालने के लिए आ गई थी।

बच्ची के ऊपर से गाड़ी निकलने का मंजर सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआः मल्टी के सामने ही बंगले में सीसीटीवी कैमरा लगा है। पूरा घटनाक्रम सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआ है। कचरा गाड़ी में क्षेत्र के लोग कचरा डाल रहे थे। गाड़ी का हेल्पर कचरा डालने में लोगों की मदद कर रहा था। चालक दूसरी साइड से ड्राड्रविंग सीट पर आया। पहले उसने बोतल निकालकर पानी पिया, और उसके बाद ड्राइविंग सीट पर बैठ गया। अचानक तीन साल की बच्ची ड्राइविंग सीट के पहिए के पास नजर आती है। स्टार्ट करने पर चालक के आगे गाड़ी बढ़ाते ही बच्ची को बंपर की टक्कर लगती है, वह सड़क पर गिरती है। पहले पहिया निकलने के बाद दूसरा पहिया भी उसके ऊपर से गुजर जाता है। यह घटनाक्रम मात्र 15 से 20 सेकेंड का है। चालक आगे गाड़ी राेकता है। सड़क पर बच्ची को उठाता है, और मां की गोद में थमा देता है। बच्ची की हालत देखकर मां के होश उड़ जाते हैं। मौके पर चीख-पुकार मच जाती है। एक युवक बाइक पार्किंग से निकालकर लाता है और पड़ोसन से दुपट्टा लेकर बाइक पर बैठकर अस्पताल लेकर दौड़ती है। लोगों का कहना है कि बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई थी। चालक का नाम साजिद खान बताया गया है। यह गाड़ी वार्ड-65 की है। इंदरगंज थाना पुलिस ने दुर्घटना की जांच शुरू कर दी है।

Posted By: vikash.pandey