Gwalior Crime News: पांचों आरोपित तीन दिन की रिमांड पर, घटनास्थल पर पूजन सामग्री के साथ आपत्तिजनक सामान भी मिला

Updated: | Sat, 23 Oct 2021 10:02 PM (IST)

ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। 40 साल की लक्ष्मी उर्फ आरती मिश्रा की हत्या के आरोप में गिरफ्तार बेटू भदौरिया, उसकी पत्नी ममता भदौरिया, बहन मीरा व उसके साथ रहने वाले नीरज परमार व तांत्रिक को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया। आरोपितों को पूछताछ के लिए तीन दिन की रिमांड पर ले लिया है। पुलिस आरोपितों को लेकर शनिवार की दोपहर को बेटू भदौरिया के घर लेकर पहुंची। आरोपित ने बताया कि लक्ष्मी की हत्या छत पर संबंध बनाते समय नीरज ने गला घोंटकर की थी। छत पर पुलिस को एक चटाई बिछी मिली है। चटाई पर आपत्तिजनक सामान के अलावा पूजा का सामान भी मिला है। मुरैना पुलिस की एक टीम नीरू की हत्या के संबंध में पूछताछ करने आ गई है

सीएसपी रवि भदौरिया ने बताया कि आरोपित को पुलिस रिमांड पर लेने के बाद हत्या के भौतिक साक्ष्य जुटाने के लिए घटनास्थल पर ले गए। आरोपितों ने महिला की हत्या छत पर की है। पुलिस को हत्या से महिला से संबंध बनाने के साक्ष्य मिले हैं। इसके अलावा घर से पूजा की सामग्री भी मिली है। पुलिस ने हत्या में उपयोग किया गया दुपट्टा भी बरामद कर लिया है।

बेटू भदौरिया का पूरा कुनबा पुलिस में

निसंतान बेटू भदौरिया पेशे से ड्राइवर था। भदौरिया दंपति मोती महल में हर गैर कानूनी काम करने के लिए कुख्यात थी। आरोपित के नजदीकी लोगों ने बताया कि आरोपित का पूरा कुनबा पुलिस विभाग में है। पिता हवलदार थे, भाई उपनिरीक्षक थे। गुना में पदस्थ थे। एक भाई पुलिस लाइन एमटीओ में प्रधान आरक्षक हैं। एक भाई की एक्सीडेंट में मौत हो चुकी है। मीरा परमार की बेटी पुलिस में आरक्षक है।

किसकी क्या भूमिका

भदौरिया दंपति: संतान के लिए बलि दी: मोतीझील निवासी बेटू भदौरिया व ममता भदौरिया 18 साल से संतान की चाह इधर-उधर भटक रहे हैं। मीरा के माध्यम से नीरज के संपर्क में आया। नीरज के संपर्क तांत्रिक गिरवर यादव था। और संतान के लिए दो महिलाओं की बलि दी।

भाई-भाभी की गोद भरने के लिए यह कृत्य किया

मीरा भदौरिया पहले पति को छोड़ दिया है। वर्तमान में नीरज परमार के साथ लव इन रिलेशन शिप रह रही है। बेटू भदौरिया की बहन है। भाई-भाभी की गोद भरने के लिए बलि की प्रमुख अभियुक्त है। नीरज परमार मूल रूप से मुरैना का निवासी है। घर में खेतीबाड़ी है। अय्याश टाइप का व्यक्ति है। मीरा के साथ लव इन- रिलेशनशिप में रहता है। प्रेमिका के कहने पर यही तांत्रिक गिरवर यादव को लाया था।

दो महिलाओं की बलि का सूत्रधार

तांत्रिक गिरवर यादव उर्फ सखी बाबा के संबंध में पुलिस को ज्यादा जानकारी नहीं है। तांत्रिक मूल रूप से दतिया जिले सेबढ़ा तहसील का निवासी है। आरोपित अपना अस्थाई ठिकाना बारादरी पर बना रखा था। पुलिस बाबा की जन्मकुंडली खंगाल रही है।

भिख्रारी के तीन लाख रुपये हजम कर गया- पुलिस को पड़ताल में पता चला है कि मुरार की एक भिखारिन ने मांग-मांगकर तीन लाख रुपये जमा किए थे। सखी बाबा उसके तीन लाख रुपये भी खा गया।

Posted By: anil.tomar