Gwalior Emperor Mihir Bhoj statue dispute: प्रशासन ने दाेनाें गुटाें में कराई सुलह, दाेनाें समाज के प्रतिनिधि गले मिले, कहा-शांति बनाए रखने में करेंगे सहयाेग

Updated: | Fri, 24 Sep 2021 09:32 AM (IST)

Gwalior Emperor Mihir Bhoj statue dispute: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। चिरवाई नाका स्थित सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा को लेकर लगातार बढ़ रहे विवाद को शांत करने के लिए प्रशासन ने महत्वपूर्ण कदम उठाया है। गुरुवार को सामाजिक एवं जातिगत सद्भाव कायम रखने के उद्देश्य से गुर्जर एवं राजपूत क्षत्रिय समाज के प्रतिनिधिगणों की कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह एवं पुलिस अधीक्षक (एसपी) अमित सांघी की मौजूदगी में बैठक आयोजित की गई।

पुलिस कंट्रोल रूम में हुई बैठक में दोनों पक्षों के लोगों को समझाइश दी गई। इसके बाद गुर्जर और राजपूत समाज के प्रतिनिधियों ने एक दूसरे को गले मिलकर यह वादा किया कि वे शहर में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पूरा सहयोग करेंगे। दोनों ही समाज के प्रतिनिधियों ने कहा कि इंटरनेट मीडिया पर भड़काऊ व अभद्र पोस्ट डालने वाले एवं कानून का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए पुलिस-प्रशासन पूर्णत: स्वतंत्र है।बैठक पुलिस व प्रशासन ने यह स्पष्ट किया कि शहर की शांति व्यवस्था को बिगाड़ने वालों से सख्ती से निपटा जाएगा। प्रतिमा को लेकर भारतीय दंड संहिता की धारा 144 लागू है। ऐसे में किसी भी प्रकार के धरना, प्रदर्शन, जुलूस व इंटरनेट मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी, वीडियो, फोटो आदि पोस्ट डालना प्रतिबंधित होगा। आदेश की अवेहलना करने वालों पर धारा 188 के तहत कार्रवाई होगी। साथ ही रासुका (एनएसए) व जिला बदर जैसी कठोर कार्रवाई भी की जाएगी। संबंधित व्यक्ति के शस्त्र लायसेंस भी तत्काल प्रभाव से निरस्त कर दिए जाएंगे।

ताे हो जाएगी 239 लोगों पर कार्रवाई : एसपी सांघी ने बताया कि सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा को लेकर जिन लोगों ने पिछले दिनों धारा-144 का उल्लंघन कर अवैध रूप से धरना व प्रदर्शन किए हैं, उन सभी की वीडियोग्राफी

कराई गई है। ऐसे लगभग 239 लोगों के नाम उनके सामने आ गए हैं। आगे यदि कानून का उल्लंघन किया तो इन सभी के खिलाफ पुलिस कार्रवाई कर दी जाएगी।

बैठक में ये रहे मौजूद :अपर कलेक्टर आशीष तिवारी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हितिका वासल, एडीएम रिंकेश वैश्य, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजय दंडौतिया समेत अन्य पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी, गुर्जर समाज से साहब सिंह गुर्जर, एमपी सिंह, भीकम सिंह, अलबेल सिंह घुरैया, रूकबेल सिंह घुरैया व थान सिंह गुर्जर समेत अन्य मौजूद रहे। राजपूत क्षत्रिय समाज से राजेंद्र सिंह भदौरिया, बृजपाल सिंह तोमर, अशोक सिंह भदौरिया, शिवेंद्र राठौर, रघुराज सिंह तोमर, सुरेंद्र तोमर, मोनू सोलंकी, छोटू सिंह तोमर समेत अन्य मौजूद रहे।

प्रतिमा यथावत रहेगीः बैठक में कलेक्टर एवं एसपी ने सभी को जानकारी दी कि चिरवाई नाके पर स्थापित सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा को लेकर उच्च न्यायालय खंडपीठ ग्वालियर में याचिका दायर हुई है। ऐसे में प्रतिमा यथावत रहेगी। न उसमें किसी प्रकार का बदलाव किया जाएगा और न ही शिला पट्टिका को ढका जाएगा। कोर्ट द्वारा ही इस संबंध में निर्णय लिया जाएगा, जिसके बाद प्रशासन निर्णय को लागू कराएगा।

गुर्जरों का चिरवाई नाके पर अनिश्चितकालीन धरना निरस्त : सम्राट मिहिर भोज प्रतिमा को लेकर गुरुवार को गिरगांव स्थित मंदिर में गुर्जर समाज ने बैठक बुलाई थी। बाद में यह बैठक मुरार स्थित गुर्जर भवन में आयोजित की गई। जिसमें 500 से अधिक लोग मौजूद रहे। गुर्जर समाज के निहाल सिंह गुर्जर ने बताया कि बैठक में निर्णय लिया गया था कि शुक्रवार को 12 बजे से चिरवाई नाका स्थित सम्राट मिहिर भोज प्रतिमा के पास अनिश्चित कालीन धरना दिया जाएगा। पुलिस व प्रशासन से इसके लिए अनुमति भी मांगी गई थी। बाद में यह धरना निरस्त कर दिया गया।

वर्जन-

कोर्ट में मामला पहुंच गया है। ऐसे में निर्णय होने तक प्रतिमा यथावत रहेगी। गुर्जर समाज के सभी लोगों से हमारी अपील है कि कोई भी अभद्र व अमर्यादित टिप्पणी न करे। समाज के युवा यह विशेष ध्यान रखें कि अगर कोई इंटरनेट मीडिया व अन्य जगह अभद्र टिप्पणी करता है, तो वह स्वयं इसके लिए जिम्मेदार होगा। समाज इसमें कोई सहयोग नहीं करेगा।

निहाल सिंह गुर्जर, जिलाध्यक्ष, आल इंडिया गुर्जर विकास संगठन ग्वालियर

वर्जन-

प्रतिमा का मामला कोर्ट में चला गया है, शुक्रवार को ही पहली तारीख है। क्षत्रिय समाज से हमारी अपील है कि शांति बनाए रखें, कोई भी आंदोलन या धरना प्रदर्शन नहीं होना चाहिए। युवाओं से विशेष अपील है कि शांतिपूर्ण माहौल बनाए रखने में प्रशासन का सहयोग करें। अब तक जो केस दर्ज हुए हैं, उनपर कार्रवाई नहीं होगी। मगर अब शिकायत मिलने पर कार्रवाई होगी।

रघुराज सिंह तोमर, जिलाध्यक्ष, अभा क्षत्रिय महासभा

Posted By: vikash.pandey