ग्वालियर नकली घी केस: मास्टर माइंड का पता नहीं कर पाई पुलिस, फूड सेफ्टी विभाग भी सुस्त

Updated: | Tue, 30 Nov 2021 01:35 PM (IST)

वरुण शर्मा, ग्वालियर नईदुनिया। ट्रांसपोर्ट नगर में अमूल ब्रांड के नकली घी के मामले में अभी तक पुलिस मास्टर माइंड का पता नही कर पाई है। वहीं गोहद में जहां माल जाना था, वहां भी पुलिस टीम स्थानीय स्तर पर कुछ पता नहीं कर सकी। त्याैहारी और सहालग सीजन में नकली घी का कारोबार बड़ा हो सकता है, ऐसी विभाग को आशंका है। ट्रांसपोर्ट नगर स्थित राधा ट्रांसपोर्ट कंपनी में लोड होने आया घी नकली निकला था। यहां चालीस पैकेट अमूल ब्रांड की पैकिंग में मिले और जांच के बाद पता चला कि यह अमूल कंपनी के थे ही नहीं।

गुजरात में अमूल प्लांट के बैच नंबर नकली डाले गए थे, जिन्हें मौके पर आए अमूल कंपनी के प्रतिनिधि ने जांच लिया। यह लिखकर भी दिया कि यह नकली घी है, जो अमूल के नाम पर बेचा जा रहा था। ट्रांसपोर्टर यह नहीं बता सका कि माल किसका है और कहां से बनकर आया। मौके से घी के सैंपल लिए और अमूल की ब्रांच पर जाकर भी उनके उत्पादों के सैंपल लिए। इस मामले में गहन जांच शुरू कर दी गई है। फूड एंड सेफ्टी विभाग के अभिहीत अधिकारी डा संजीव खेमरिया ने बताया कि मौके पर राधा ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक सुनील कुमार शर्मा से पूछा कि माल कहां जाना था, तो उन्होने बताया कि श्रीजी ट्रेडर्स गोहद के लिए माल बुक हुआ था। यहां शहर में यह माल कहां से आया नहीं पता है। बुक करने वाला कौन था, यह भी नहीं पता। बिना दस्तावेजों के राधा ट्रांसपोर्ट में माल बुक किया गया इसकी पुष्टि हुई। घी के सभी पैकेट पांच-पांच सौ एमएल के थे। माल की कुल कीमत करीब 19 हजार रूपये बताई गई थी।

Posted By: vikash.pandey