HamburgerMenuButton

Parichay Sammelan in Gwalior: काेरोनाकाल में गई लोगों की नौकरी, इसलिए अब चाहिए बिजनेसमैन पति

Updated: | Sun, 07 Mar 2021 02:24 PM (IST)

ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Parichay Sammelan in Gwalior। कोरोनाकाल में बढ़िया नौकरी वाले लोग भी बेरोजगार हो गए, अच्छा वेतन पाने वाले लोगों की भी नौकरी चली गई। इसलिए बिजनेस करने वाला पति चाहिए, क्योंकि व्यापार कमजोर जरूर होगा मगर झटके में खत्म नहीं होगा। जीवन साथी की तलाश में अपना परिचय देते हुए यह बाते अग्रवाल समाज की युवतियों द्वारा कही गई। 6 मार्च को ग्वालियर अग्रवाल परिचय सम्मेलन द्वारा 75वां युवक-युवती परिचय सम्मेलन का आयोजन किया गया। चेतकपुरी स्थित तोरण वाटिका में हुए सम्मेलन में 210 युवक-युवतियों ने जीवन साथी की तलाश में मंच से अपना परिचय दिया। कार्यक्रम में आए कई युवकों ने खुलकर यह बात भी कही कि वे बिना दहेज के शादी करेंगे। तोरण वाटिका में 7 मार्च को भी युवक-युवती परिचय सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। शनिवार को हुए परिचय सम्मेलन का शुभारंभ सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने किया। विशिष्ट

अतिथि के तौर पर पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल मौजूद रहे, वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता राजेश ऐरन ने की। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सांसद शेजवलकर ने कहा कि अग्रवाल समाज हमेशा सेवा क्षेत्र में अग्रणी भूमिका निभाता है। साथ ही उन्होंने कहा कि अग्रबंधुओं के लिए परिचय सम्मेलन परिवार की जिम्मेदारी निभाने का माध्यम है। कार्यक्रम में दिलीप अग्रवाल, प्रदीप अग्रवाल, मुकेश सिंघल, वेदप्रकाश बंसल, मनोज अग्रवाल, गीतेश अग्रवाल, नीलम शाह, विनीता तायल, मालती गोयल, पूनम अग्रवाल, ज्योति अग्रवाल आदि मौजूद रहे।

मुनि सुव्रतनाथ भगवान का हुआ सामूहिक चालीसा पाठःमुनि सुव्रतनाथ दिगंबर जैन मंदिर शिंदे की छावनी में पिछले ढाई साल पहले महिलाओं ने संकल्प लिया था। जब तक मंदिर में नवीन वेदिका पर भगवान की प्रतिमा विराजित नहीं होगी, हर शनिवार को मंदिर में सामूहिक चालीसा का पाठ किया जाएगा। मंदिर की ऊपरी मंजिल पर भगवान की भव्य वेदिका का निर्माण हुआ। मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज के सानिध्य में आयोजित पंचकल्याणक महोत्सव में प्रतिष्ठित भगवान मुनि सुव्रतनाथ की प्रतिमा की स्थापना की गई। इस तरह महिलाओं द्वारा लिया गया संकल्प पूर्ण हुआ। शनिवार को भगवान की प्रतिमा के समक्ष महिलाओं के द्वारा चालीसा पाठ किया गया। जिसके बाद भजनों पर महिलाओं ने भगवान की भक्ति में नृत्य किया। कार्यक्रम के अंत में भगवान की आरती उतारी गई।

Posted By: vikash.pandey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.