HamburgerMenuButton

Gwalior News: सिंधिया व उनके निज सचिव पर कांग्रेस में रहते हुए चुनाव के टिकट बेचने का आरोप

Updated: | Mon, 26 Oct 2020 10:59 PM (IST)

Gwalior News ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कांग्रेस ने सोमवार को पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह व भांडेर से भाजपा प्रत्याशी रक्षा सिरोनिया के पति संतराम सिरोनिया के बीच हुई बातचीत का एक वीडियो मीडिया को जारी किया है। कांग्रेस के मीडिया प्रभारी केके मिश्रा ने यह वीडियो जारी करते हुए राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया व उनके निज सचिव पुस्र्षोत्तम पाराशर पर कांग्रेस में रहते हुए 2018 के विधानसभा चुनाव का टिकिट देने के एवज में 1 करोड़ रुपये मांगने का आरोप लगाया है।

इस वीडियो में संतराम सिरोनिया ने स्वीकार किया है कि टिकट के लिए पुस्र्षोत्तम पाराशर के साले अनूप दांतरे के पास 25 लाख रुपये जमा कराए थे। इससे पहले भी कांग्रेस ने जून में भी ज्योतिरादित्य सिंधिया व अशोक नगर से कांग्रेस प्रत्याशी आशा दोहरे की सास अनिता जैन के बीच हुई बातचीत का एक आडियो जारी कर टिकट के एवज में पुस्र्षोत्तम पाराशर द्वारा 50 लाख रुपये लिए जाने का आरोप लगाया था।

इसकी शिकायत आइजी ग्वालियर रेंज से भी की थी। यह वीडियो 6 मिनिट 33 सेकेंड का है। इस वीडियो में शब्द स्पष्ट सुनाई नहीं दे रहे हैं। कांग्रेस के मीडिया प्रभारी केके मिश्रा ने आरोप लगाया कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस में रहते हुए अपने निज सचिव के माध्यम से टिकट दिलवाने के एवज अपने ही समर्थकों से बड़ी धनराशि वसूली है। इसका प्रमाण भांडेर (अजा) विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी रक्षा सिरोनिया के पति संतराम सिरोनिया व पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह से बातचीत का वीडियो है।

निज सचिव के साले के पास जमा कराए 25 लाख रुपये

वीडियो में संतराम सिरोनिया डॉ गोविंद सिंह को बता रहे हैं कि पुस्र्षोत्तम पाराशर ने पहले टिकट के एवज में 1 करोड़ रुपये जमा कराने के लिए कहा। जब मैने कहा कि इतने पैसा जमा करा देंगे, तो चुनाव कैसे लड़ेंगे। इसके बाद 50 लाख रुपये जमा कराने के लिए कहा। इंकार करने पर पाराशर ने मुझसे से पूछा कि कितने जमा करा सकते हो। मैंने 25 से 30 लाख जमा कराने की हामी भर ली। पुस्र्षोत्तम पाराशर के कहने पर टिकट के लिए 25 लाख रुपये उनके साले अनूप दांतरे निवासी इंदरगढ़ के पास जमा कराए। अनूप दांतरे भाजपा के मंडल अध्यक्ष हैं। केके मिश्रा ने ज्योतिरादित्य सिंधिया व पुस्र्षोत्तम पाराशर के खिलाफ प्रकरण दर्ज करने की मांग की है

वहीं अनूप दांतरे का कहना है कि मैं अलग पार्टी में हूं और वह अलग पार्टी में थे। 2 साल पहले की कोई घटना भी है तो मुझे नहीं मालूम। हमारे बहनोई पाराशर जी ज्योतिरादित्य सिंधिया के यहां पर नौकरी करते हैं और मैं आज तक दिल्ली नहीं गया। पाराशर जी दिल्ली में ही रहते हैं। मैं दो बार भाजपा का मंडल अध्यक्ष रहा हूं। यदि ऐसा होता तो मेरे ताऊ के लड़के हैं राजेश दांतरे वे खुद भी टिकट के दावेदार थे, मैं उन्हें भी टिकट दिलवा सकता था। संतराम सिरोनिया ने मेरा नाम कैसे लिया..? यह तो वही बेहतर बता पाएंगे। मेरा इस वीडियो से कोई लेना देना नहीं है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.