Gwalior Oxygen News: छह करोड़ लीटर आक्सीजन की क्षमता होगी जेएएच में

Updated: | Mon, 26 Jul 2021 11:15 AM (IST)

- जयारोग्य अस्पताल में हर मिनट तैयार होगी साढ़े तीन हजार लीटर आक्सीजन

- जयारोग्य अस्पताल में हर मिनट तैयार होगी साढ़े तीन हजार लीटर आक्सीजन

Gwalior Oxygen News:ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दूसरी लहर में आक्सीजन की किल्लत झेल चुका जयारोग्य अस्पताल अब आक्सीजन के मामले में समृद्घ हो रहा है। जयारोग्य अस्पताल में प्रतिमिनट 3500 लीटर आक्सीजन तैयार होगी, जबकि छह करोड़ लीटर का स्टाक उपलब्ध रहेगा। इसके लिए जेएएच प्रबंधन चार आक्सीजन टैंक लगाने की कवायाद कर रहा है। शासन से अनुमति मिलने के बाद जेएएच प्रबंधन द्वारा 42 केएल के चार आक्सीजन टैंक जेएएच परिसर में लगाने टेंडर निकाले हैं। टेंडर प्रक्रिया हो चुकी अब कंपनियों के आवेदन आना शेष हैं। इससे पहले भीआइनोक्स के 40 केएल के टैंक जेएएच परिसर में लगे हुए हैं। यहां सभी आठ टैंक लगने पर पांच करोड़ 98 लाख 40 हजार लीटर आक्सीजन की क्षमता उपलब्ध हो जाएगी।़इिकाई की नाप: 10 केएल के टैंक में 1100 सिलिंडर आक्सीजन होती है। एक सिलिंडर में 6800 लीटर आक्सीजन भरने की क्षमता होती है। आठ टैंक में 82 केएल आक्सीजन होगी। इसे लीटर में नापा जाए तो यह छह करोड़ लीटर के आसपास होगी।

ऐसे समझें जेएएच में आक्सीजन की उपलब्धता

- कार्डियोलॉजी विभाग: यहां सनफार्म कंपनी द्वारा लगाया गया प्लांट 300 लीटर आक्सीजन प्रतिमिनट तैयार करेगा, प्लांट अभी शुरू नहीं किया है।़

- ट्रॉमा सेंटर: यूपीएल कंपनी ने प्लांट लगाया है, जो 1000 लीटर प्रतिमिनट आक्सीजन तैयार करता है। यह शुरू हो चुका है।

- न्‍यूरोलॉजी: पेटीएम द्वारा प्लांट लगाया गया है, जो 260 लीटर आक्सीजन प्रतिमिनट बनाएगा।़नि ़ा1000 बिस्तर अस्पताल: यहां डीआरडीओ व एनएचएआइ द्वारा प्लांट लगाया जा रहा है। यह 2000 लीटर आक्सीजन प्रतिमिनट तैयार करेगा। इसका निर्माण चल रहा है।

दो आक्सीजन प्लांट लग चुके हैं। इसमें सनफार्मा का प्लांट कंडम स्थिति में है, जिसे हटवाने के लिए संभागायुक्त को पत्र लिखा है। दो प्लांट अभी लगना शेष हैं। चार आक्सीजन टैंक लगाए जाने हैं, जिसके टेंडर हो चुके हैं। अब जेएएच में आक्सीजन की भरपूर उपलब्धता होगी। प्लांटों से साढ़े तीन हजार लीटर आक्सीजन प्रतिमिनट बनेगी।़

डा. आशीष माथुर, नोडल अधिकारी आक्सीजन, जेएएच

Posted By: anil.tomar